Thursday, 3 December 2020

छोटी सी हरड़ के 20 फायदे जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान | Harad ke Fayde in Hindi

20 Benefits of Terminalia Chebula -

दोस्तों जब भी हमारे पेट  में गैस या कब्ज की परेशानी होती है तो हमारे घर के बुजुर्ग हमें हरड़ खाने की सलाह देते हैं। लेकिन क्या आपको पता है की ये छोटा सा हरड़ सिर्फ गैस जैसी बीमारियों में ही आराम नहीं देता बल्कि इसके कई और फायदे भी हैं। अगर दूसरी भाषा में कहें तो इसे औषधि कहना भी गलत नहीं होगा।आपको बता दें की  हरड़ दो प्रकार के होते हैं− बड़ी हरड़ और छोटी हरड़

दोस्तों  हरड़ को आयुर्वेद में बहुत ही गुणकारी माना गया है. चरक संहिता में जिस पहले औषधि के बारे में बताया गया है वह हर्रे या हरड़  ही है. बहुत पहले से ही आप और हम अपने घरो में इसका उपयोग कई तरीकों से करते आए हैं. दूसरी तरफ हरड़ पेट के रोगों में विशेष रूप से फायदेमंद है जैसे बवासीर, कब्ज़ एवं पेट के कीड़ो को ख़त्म करने में उपयोग किया जाता है.

जहाँ बड़ी हरड़ के भीतर सख्त गुठली होती है वहीँ  छोटी हरड़ में किसी प्रकार की कोई गुठली नहीं होती है। वास्तव में वे फल जो गुठली पैदा होने से पहले ही तोड़कर सुखा लिए जाते हैं उन्हें ही छोटी हरड़ की श्रेणी में रखा जाता है। क्या आपको पता है की हरड़ को हरीतकी भी कहा जाता है। यह न केवल हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है, इसके अलावा दुसरे लाभ यानि की इसके सौन्दर्य लाभ भी कुछ कम नहीं है। दोस्तों इस छोटी सी हरड़ के बड़े स्वास्थ्य लाभ क्या- क्या हैं  इसके बारे में सबको  जानना चाहिए।




आज के इस पोस्ट में हम आप लोगों को  हरड़ के 10 ऐसे फायदों के बारे में बताएँगे जो  हमारे स्वास्थ्य के लिए  बहुत लाभकारी हैं. तो चलिए शुरू करते हैं -


1. अगर आपके शरीर के किसी भाग पर फंगल एलर्जी या संक्रमण हो गया है तो ऐसी स्थिति में हरड़ के फल और हल्दी से तैयार लेप प्रभावित भाग पर दिन में दो बार लगाएं, त्वचा के पूरी तरह सामान्य होने तक इस लेप का इस्तेमाल करते  रहें ।


2. दोस्तों हरड़ का काढ़ा त्वचा संबंधी एलर्जी में लाभकारी है। हरड़ के फल को पानी में उबालकर काढ़ा बनाएं और इसका सेवन दिन में दो बार नियमित रूप से करने पर जल्द आराम मिलता है।


3. अपने बालों को स्वस्थ्य बनाने के लिए हरड़ के फल को नारियल तेल में उबालकर (हरड़ पूरी तरह घुलने तक) लेप बनाएं और इसे बालों में लगाएं या फिर प्रतिदिन 3-5 ग्राम हरड़ पावडर एक गिलास पानी के साथ सेवन करें।

   

4. दोस्तों हरड़ एक प्रकार का स्वास्थ्यवर्धक टॉनिक  है, जिसके प्रयोग से हमारे बाल काले, चमकीले और आकर्षक दिखने लगते हैं।

   

5. अगर आपके शरीर के किसी भाग पर एलर्जी हो गयी है तो उस  प्रभावित भाग की धुलाई भी इसके  काढ़े से की जा सकती है।


6. अगर आपके मुंह में सूजन हो गया है तो ऐसी स्थिति में  हरड़ के गरारे करने से काफी फायदा मिलता है।


7. हरड़ का पल्प कब्ज से राहत दिलाने में भी गुणकारी होता है। इस पल्प को चुटकीभर नमक के साथ खाएं या फिर 1/2 ग्राम लौंग अथवा दालचीनी के साथ इसका सेवन करें।


8. हरड़ का एक और लाभ यह है की इसके लेप को पतले छाछ के साथ मिलाकर गरारे करने से मसूढ़ों की सूजन में भी आराम मिलता है।


9. इसका एक और महत्वपूर्ण फायदा यह है की हरड़ का चूर्ण दांत दर्द  वाले स्थान पर लगाने से भी तकलीफ कम होती है।

   

10. हरड़ का नियमित रूप से सेवन, वजन कम करने में सहायक है। यह पाचन में सहायक होने के साथ ही, गैस, एसिडिटी और अन्य समस्याओं से राहत देती है और धीरे-धीरे मोटापा कम करती है।


11. खाना खाने के बाद अगर आपके पेट में भारीपन महसूस हो रहा है , तो इस स्थिति में  इसका सेवन करने से आराम मिलता है.


12. हरड़ का सेवन करने से खुजली  या फंगल इन्फेक्शन जैसी समस्या भी दूर हो जाती है.
नोट-  हरड़ का सेवन गर्भवती महिलाओं को नहीं करना चाहिए.


13. हरड़ का चूर्ण व पुराने  गुड़ को समान मात्रा में मिलाकर दिन में तीन बार सेवन करने से पीलिया जैसा  बड़ा रोग भी दूर हो जाता है. इसके सेवन की मात्रा सिर्फ 10 से 20 ग्राम तक ही रखें.


14. हरड़, नीम की छाल का चूर्ण, वायविडंग और गुड़ को एक साथ मिलाकर सेवन करने से हमारे पेट के कीड़ों का नाश हो जाता है.


15. हरड़ के  चूर्ण को समभाग गुड़ के साथ सुबह-शाम लेने  से बवासीर जैसी बीमारी भी ठीक हो जाती है.


16. हरड़ के चूर्ण को एक चम्मच की मात्रा में दो किशमिश के साथ सेवन  करने से एसिडिटी की समस्या  दूर हो जाती है.

17.  हरड़  हमारे भूख को बढ़ाने में भी बहुत लाभकारी सिद्ध होता है. इसके लिए हमें इसे चबाकर खाना होगा.

ये भी पढ़ें- सर्दियों में होने वाले जायफल के चमत्कारी फायदे | Benefits of Nutmeg in Hindi



18. 5 ग्राम हरड़ का चूर्ण 40 मि.ली. गोमूत्र में मिलाकर हर रोज़ पीने व खानपान में परहेज़ रखने से कुष्ठ जैसा गंभीर रोग भी ख़त्म हो जाता है.

19. अगर आपको खांसी की समस्या हो गयी है तो इस स्थिति में  हरड़, कालीमिर्च एवं  पीपरि तीनों का सामान भाग में चूर्ण 3-3 ग्राम की मात्रा में दिन में तीन बार गुड़ के साथ खाएं. इससे कुछ ही दिनों में लाभ मिलेगा.

20. हरड़ या हर्रे के चूर्ण को 5 ग्राम शहद के साथ सुबह-शाम लेने से मलेरिया में फ़ायदा होता है.


तो दोस्तों आज का यह पोस्ट आपको कैसा लगा, आप हमें अपने कमेंट के माध्यम से  जरुर बताएं. 

धन्यवाद.


EmoticonEmoticon

>