Friday, 6 December 2019

श्री राम के वंशजों (दादा- परदादा ) के नाम| Name of Lord Rama Ancestors

नमस्कार दोस्तों, आपका एक बार फिर से स्वागत है हमारे वेबसाइट पर.मित्रों आज का यह पोस्ट शायद हमारे अभी तक के सारे पोस्ट से अलग हट के है, जी हां सही सुना आपने .क्योकि आज के इस पोस्ट में हम आप लोगों को भगवान श्री राम के सारे पूर्वजों, उनके नाम के बारे में बताने वाले हैं.
साथ ही ये भी बताएँगे की श्री राम अपने पूर्वजों के कितनी पीढ़ी के बाद पृथ्वी लोक पर जन्म लिए थे .
तो अब आपकी उत्सुकता को ज्यादा और ना बढ़ाते हुए शुरू करते हैं-
1. भगवान ब्रह्मा जी से मरीचि उत्पन्न हुए.
2. मरीचि के पुत्र कश्यप हुए.
3. कश्यप के पुत्र विवस्वान थे.
4. विवस्वान के पुत्र  वैवस्वत मनु हुए, वैवस्वत मनु के समय जल प्रलय हुआ था.
5.वैवस्वत मनु के 10 पुत्रों में से एक का नाम इक्ष्वाकु था, इक्ष्वाकु ने अयोध्या को अपनी राजधानी बनाया एवं इस प्रकार इक्ष्वाकु कुल की स्थापना की|
6. इक्ष्वाकु के पुत्र का नाम कुक्षी था|
7. कुक्षी के पुत्र का नाम विकुक्षी था|
                                     
  
8. विकुक्षी के पुत्र बाण  हुए|
9. बाण के पुत्र अनरण्य हुए|
10.अनरण्य से  पृथु हुए|
11.पृथु  से त्रिशंकु का जन्म हुआ|
12.त्रिशंकु के पुत्र धुन्धुमार हुए|
13.धुन्धुमार के पुत्र का नाम युवनाश्व  था|
14.युवनाश्व के पुत्र मान्धाता हुए|
15.मान्धाता से सुसंधि का जन्म हुआ|
16.सुसंधि के दो पुत्र हुए जिनका नाम ध्रुवसंधि एवं प्रसेनजीत था|
17. ध्रुवसंधि के पुत्र भरत हुए|
18. भरत के पुत्र  असित हुए|
19.असित के पुत्र सगर हुए|
20. सगर के पुत्र का नाम  असमंज था|
21. असमंज  के पुत्र अंशुमान हुए|
22. अंशुमान के पुत्र दिलीप हुए|
23. दिलीप के पुत्र भगीरथ हुए जिसने गंगा को पृथ्वी पर उतारा था. इनके पुत्र का नाम  ककुत्स्थ था|
24. ककुत्स्थ के पुत्र रघु हुए. रघु के अत्यंत तेजस्वी और पराक्रमी नरेश होने के कारण उनके बाद इस वंश का नाम रघुवंश हो गया तब से भगवान श्रीराम की कुल को रघुकुल भी कहा जाता है|
25. रघु के पुत्र प्रवृद्ध हुए|
26. प्रवृद्ध  के पुत्र शंखण थे|
27. शंखण के पुत्र सुदर्शन हुए|
28. सुदर्शन के पुत्र का नाम अग्निवण था|
29. अग्निवण के पुत्र शीघ्रग हुए|
30.शीघ्रग के पुत्र का नाम मरू था|
31. मरू के पुत्र का नाम प्रशुश्रुक थे|
32. प्रशुश्रुक के पुत्र अंबरीष हुए|
33. अंबरीष के पुत्र का नाम नहुष था|
34. नहुष के पुत्र ययाति हुए|
35. ययाति के पुत्र का नाम नाभाग था|
36. नाभाग  के पुत्र का नाम  अज था|
37. अज के पुत्र राजा दशरथ जी थे|
38. राजा दशरथ के चार पुत्र राम, भरत, लक्ष्मण और शत्रुघ्न थे|
 इस प्रकार ब्रह्मा जी के उन्चलिसवी 39वी पीढ़ी में भगवान श्रीराम का जन्म हुआ था|
दोस्तों इस पोस्ट को आप लोगों तक पहुचाने में काफी मेहनत करना पड़ा, क्योकि काफी समय से इस टाइप के पोस्ट हम आपके बीच लाने के बारे में सोच रहे थे और आज सफल हो गए,यह सब कुछ सिर्फ आप लोगों के हमारे इस वेबसाइट के लगातार दिए प्यार के कारण संभव हुआ है.
तो मित्रों आज का यह पोस्ट आपको कैसा लगा,आप हमें कमेंट करके जरुर बताइए.अगर यह पोस्ट आपको पसंद आयी हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों से शेयर जरुर कीजिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें और भगवान राम के दादा - परदादा के बारे में जानें.धन्यवाद.


EmoticonEmoticon

>