Monday, 29 April 2019

मटके का पानी पीने के फायदे | मिट्टी के मटके के फायदे | pottery benefits | pottery benefits in hindi

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का आपके अपने  वेबसाइट में एक बार फिर से स्वागत है, फ्रेंड्स  आज के आधुनिक जीवन शैली में भले ही ठंडे पानी के लिए फ्रिज का उपयोग जमकर हो रहा है, लेकिन अगर स्वास्थ्य के लिहाज से देखा जाये तो  मटके के सोंधी महक वाले पानी का नहीं है आज भी कोई विकल्प, जी हां यह सिर्फ हमारी ही नहीं बल्कि प्रकृति की सेहत के लिए भी है बहुत फायदेमंद.
 फ्रेंड्स आज हमें फ्रिज का पानी पीना बड़ा  मॉडर्न सा लगता है, लेकिन हम याद नहीं रखते की मिट्टी के मटके में रखे पानी में कितने गुण हैं और यह अच्छे स्वास्थ्य के लिए सुरक्षा कवच है.
दरअसल मिट्टी में बुनियादी रूप से ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होते हैं.
यह सिर्फ पानी सुरक्षित रखने का पात्र मात्र नहीं है बल्कि इसके इस्तेमाल के साथ ही हम बढ़ जाते हैं एक कदम प्रकृति की ओर.
गुणों का खजाना-
जी हां दोस्तों मिट्टी में बर्तन वाकई गुणों का खजाना है, क्योंकि मिट्टी के मटके की दीवारों में असंख्य छोटे-छोटे छिद्र होते हैं जो कि हमारे आंखों से दिखाई नहीं देते है. इन छिद्रों से पानी रिसता रहता है जिस कारण मटके की सतह पर हमेशा गीलापन बना रहता है.
मटके में पानी रखने पर इसका वाष्पीकरण होता है, जिससे पानी के कारण गर्मी के रूप में उर्जा प्राप्त करते हैं और फिर गैस में बदल जाते हैं.
फिर यही कड़ हवा के साथ मिश्रित हो जाते हैं तथा मटके में फैल जाते हैं जिससे मटके का पानी ठंडा हो जाता है. दोस्तों मटके से आपको केवल पीने के लिए ठंडा पानी ही नहीं मिलता बल्कि मिट्टी के बहुत सारे गुण भी प्राप्त होते हैं.
मिट्टी के बर्तनों में जलवायु के अनुसार पानी को ठंडा करने की अद्भुत क्षमता होती है. यह एक ऐसा विशेष गुण होता है, जो किसी भी धातु के पात्र में नहीं पाई जाती है और पीढ़ियों से भारतीय घरों में पानी रखने के लिए मिट्टी के बर्तन यानी कि मटको का इस्तेमाल किया जाता है.
मिट्टी में अनेक प्रकार के छार, विटामिन, खनिज ,धातु, रसायन तथा रसों की मौजूदगी होती है, इसलिए विशेषज्ञ भी मिट्टी में पाए जाने वाली रोग प्रतिरोधक क्षमता को स्वीकार करते हैं जो मटके से पानी में आ जाती है.
                                 
यही कारण है कि मटके में  रखा पानी हमें निरोगी रखने में सहायता करता है इसके अलावा मटके को रंगने में इस्तेमाल किया जाने वाला गेरू शरीर को शीतलता देता है और कहा यह भी जाता है कि मिट्टी की चुंबकीय ताकत शरीर को चुस्ती- फुर्ती तथा ताकत देती है जिससे शरीर को उचित पीएच संतुलन प्रदान करके एसिडिटी तथा पेट दर्द में बहुत राहत पहुंचाने का काम भी मटके का पानी करता है.
आमतौर पर गर्मियों में लोग  फ्रिज का पानी इस्तेमाल करते हैं, लेकिन पानी ज्यादा ठंडा होने के कारण यह गले की कोशिकाओं पर बुरा प्रभाव डालता है, वहीं मटके में रखा पानी सही तापमान पर रहता है, ना तो बहुत अधिक ठंडा और ना ही बहुत गर्म. मटके का पानी हमें हिट स्ट्रोक से भी बचाता है.
हानिकारक रसायनों से बचाव-
फ्रेंड्स हमारे जीवन के सभी क्षेत्रों में पर्यावरण अनुकूल विकल्पों का उपयोग करना एक अच्छी पहल है. कई लोग प्लास्टिक की बोतलों में पानी रखते हैं, जिससे वे कई हानिकारक रसायनों की गिरफ्त में आ जाते हैं और वही आज लगभग हर घर में मौजूद रेफ्रिजरेटर खतरे को साक्षात निमंत्रण देने वाला उपकरण है.
 एसी एवं  रेफ्रिजरेटर से उत्सर्जित होने वाला क्लोरो फ्लोरो कार्बन ( सीएफसी) ओजोन परत  को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाती है जबकि मिट्टी के बर्तन पूरी तरह से पर्यावरण के अनुकूल होते हैं जो लंबे समय तक उपयोग होने के कारण मिट्टी के मटके प्लास्टिक बोतलों की अपेक्षा काफी सस्ते भी होते हैं.
हाथों का अनूठा हुनर-
फ्रेंड्स आजकल मटके की सहोदर सुराही तो अपनी कलात्मक डिज़ाइन के लिए अरसे से मशहूर थी, लेकिन अब मिट्टी के मटके में भी काफी कलात्मकता दिखाई देने लगी है.
जयपुर के कारीगरों ने अपने हुनर से मटको को लंबा और अंडाकार  रूप दिया है. यहाँ  नल  लगे मटको में रंगीन पेंटिंग भी दिखाई देती है जो कि मटके को बहुत ही खूबसूरत एवं आ आकर्षक बना देती है.
तो दोस्तों आज का हमारा पोस्ट आपको कैसा लगा आप हमें कमेंट में जरूर लिखकर बताएं एवं ऐसे ही अन्य मजेदार आर्टिकल पढ़ने के लिए आप हमारे वेबसाइट www.kyakaisehai.com पर आते रहिए.
अगर यह पोस्ट आपको अच्छा लगा हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों को जरूर शेयर कीजिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग हमारे इस पोस्ट को पढ़ सकें धन्यवाद. 

1 comments so far

Nice article sir,this very valuable for human life


EmoticonEmoticon