Sunday, 16 December 2018

Hiking meaning in hindi | हाइकिंग पर पहली बार जा रहे हैं तो रखें इन बातों का ध्यान



क्या है हाइकिंग?
हाइकिंग यानी पैदल ही लंबी दूरी तय करना. फ्रेंड्स  आप सब ने  अपने जीवन में  कई बार हाइकिंग  पर गए होंगे. आज के समय में  हाइकिंग  एक  प्रकार का  एडवेंचर  हो गया है. भारत के साथ- साथ  दुनिया भर के लोगों में  हाइकिंग को लेकर एक जबरदस्त उत्साह है. दुनिया भर के  टूरिस्ट के हाइकिंग के प्रति आकर्षण को देखते हुए  दुनिया के लगभग सभी देश हाइकिंग को बढ़ावा देने में लगे हुए हैं. पैदल ही लंबी दूरी तय करने को हाइकिंग कहते हैं.
हाइकिंग पर जब पहली बार जा रहे हैं तो रखें इन बातों का ध्यान-
1.हाइकिंग के लिए सही जगह का चुनाव जरूरी है, पहली बार हाइकिंग पर जा रहे हैंं, तो आसान रास्ते और सरल जगह का चुनाव करें, अगर किसी अनुभवी ग्रुप में हाइकिंग करेंगे, तो आपके लिए आनंददायक होगा.
2.मौसम के हिसाब से कपड़ों का चयन करें. ठंड में वूलन या ऊनी कपड़े साथ ले जाए जो कई स्तर में हो, अगर गर्मी में जाए तो हल्के कपड़ों के साथ चौड़ा टोपी भी ले.
3.अगर पहाड़ों पर हैकिंग करना है तो वॉटर प्रूफ जैकेट साथ में रखें क्योंकि यहां मौसम कभी भी बदल सकता है साथ ही अच्छी ग्रिप वाले जूते ले.जूतों के सोल पर ध्यान दें कि यह अच्छे रबर से बनी हो ताकि फिसलने का डर ना रहे.
    

4.हाइकिंग के लिए अच्छी तरह खाना-पीना जरूरी है, प्लान कर ले एक ट्रिप में कहां तक जाना है और उसके अनुसार ही जरूरत से ज्यादा डाइट लें, जरूरत से ज्यादा इसलिए क्योंकि कभी-कभी प्लैनिंग से ज्यादा समय लग सकता है. अगर रात में हाइकिंग करना है तो हाई एनर्जी और पोस्टिक भोजन पैक करें जिन्हें पकाने में कम समय लगे.
                                          
5.हाइकिंग के दौरान चॉकलेट साथ में रखना फायदेमंद रहेगा क्योंकि उसमें मौजूद कैफीन आपको दिमागी तौर पर मजबूती देगा. थोड़े थोड़े समय में पानी पीते रहे, क्योंकि पानी का लेवल कम होने पर आपको जल्दी थकान महसूस होने लगेगी पानी को जब भी पिए तो उबले हुए पानी पिए.





6.अगर आपको हाइकिंग का मजा लेना हो तो आपको अपनी क्षमता बढ़ानी होगी ना की स्पीड ऐसे में जरूरी है कि आप  सामान्य से भी धीरे चले क्योंकि इससे चलने की क्षमता बनी रहती है. एक निश्चित समय के बाद रुक कर आराम करने, ड्राई फ्रूट्स लेने और पानी पीना ना भूलें इससे एनर्जी भी मिलेगी.
7.अगर आप हाइकिंग के दौरान ऐसी जगह जा रहे हैं जहां साइन पोस्ट नहीं लगे हैं तो रास्ते की जानकारी के लिए नेविगेशन रिसीवर की बजाय मैप रखें क्योंकि सिग्नल नहीं रहने या बैटरी खत्म होने पर नेविगेशन रिसीवर किसी काम का नहीं रहेगा, अतः एक बार पूरे मैच की स्टडी करें और याद रखें की कौन सी नदी, पर्वत या लैंडमार्क कहां है, इससे रास्ता भटकने का डर नहीं रहेगा.
फ्रेंड्स आज का हमारा यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें  लाइक और कमेंट करके जरूर बताएं. दोस्तों इसी प्रकार के Tourism,Technology,History,Interesting factसे संबंधित  अन्य जानकारियां प्राप्त करने के लिए आप हमारे चैनल 'Kyakaisehai.com' को फॉलो करें धन्यवाद.