Thursday, 6 December 2018

जानिए कैसे बनता है मकड़ी का जाल

दोस्तों आप सब ने बचपन से ही मकड़ी को देखा होगा और मकड़ी अपने द्वारा बनाए गए जाल में रहती है. क्या आपने कभी गौर किया है की मकड़ी अपने जाल कैसे बनाती है? दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आप लोगों को मकड़ी अपने जाल कैसे बनाती है, इसके बारे में बताने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं.
दोस्तों आप सब ने घर के कोनों में या पुराने मकानों में अक्सर मकड़ी का जाल देखा होगा, हो सकता है आपने मकड़ी को जाल बनाते हुए भी देखा होगा लेकिन क्या आपको पता है कि यह मकड़ी अपने जाल कैसे बनाती हैं तो यह जानने के लिए आप हमारे पोस्ट पर बने रहिए.
मकड़ी के शरीर में से जाल बनाने के लिए एक धागे जैसा चिपचिपा पदार्थ  निकलता है, इस चिपचिपा  पदार्थ को ही Spider Silk कहते हैं.
                                   
                                        
                                                 
Spider Silk यानी कि यह चिपचिपा पदार्थ मकड़ी की रेशमी ग्रंथि से निकलता है और ये धागे के रूप में दीवारों पर एक सिरे से दूसरे सिरे तक चिपक जाता है जैसे ही यह चिपचिपा पदार्थ हवा के संपर्क में आता है तो यह थोड़ा सा कड़ा हो जाता है और धागे तथा जाल के रूप में दिखने लगता है इस प्रकार मकड़ी अपना शिकार को फंसाने के लिए इस साल का इस्तेमाल करती है.
तो दोस्तों अब तो आपने जान ही लिया होगा कि मकड़ी का जाल कैसे बनता है. दोस्तों हमारा आज का यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें लाइक सब्सक्राइब एवं कमेंट करके जरूर बताएं एवं इसी प्रकार के अन्य Technology, Education, Tourism, History एवं Interesting Fact से रिलेटेड जानकारियां प्राप्त करने के लिए हमारे वेबसाइट Kya Kaise Hai को फालो करते रहिए धन्यवाद.