Monday, 22 October 2018

भोजन पकाने के चुनिंदा तरीके

नमस्कार, दोस्तों आपका अपने चैनल "Kya Kaise Hai" में एक बार फिर से स्वागत है, आज हम बात करेंगे खाना पकाने के चुनिंदा तरीके के बारे में,
फ्रेंड्स हमारे देश में नाश्ता या नमकीन तैयार करने के लिए खूब Tel-Ghee इस्तेमाल करने की परंपरा है जो ह्रदय रोगियों के लिए बहुत ही खतरनाक है इसलिए पकाने के इन बताएं तरीकों को अपनाकर देखिए-
1- भुनना-भुनना तथा bake करना लगभग एक समान है यह कार्य 120° सेल्सियस तथा 260° सेल्सियस तापमान के बीच अवन(Oven) में किया जाता है साधारण रूप से पापड़ को भुना जाता है जबकि ब्रेड केक तथा बिस्कुट पकाए जाते हैं, भोजन थोड़ा सुखी आंच पर पकाया जाता है तथा थोड़ा नमी आंच पर पकाया जाता है. अगर भोजन अधिक नमी दार है, पकाने के लिए भोजन का तापक्रम शुरू में नमी होना चाहिए ताकि ठंडे पदार्थ को अनुकूल तापमान पर लाया जा सके तथा पकाना प्रक्रिया द्वारा ओवन में ताप को विभिन्न क्रियाओं द्वारा परिवर्तित किया जाता है कन्वैक्शन तरंगे ओवन के तापमान को एक समान रखती हैं इस प्रक्रिया का यह लाभ है कि इसमें तेल बिल्कुल भी प्रयोग में नहीं लाया जाता तथा भोजन स्वाद से भरपूर पकता है.

2- उबालना- बोलने का मतलब है पानी में पकान इस माध्यम में पानी में ताप परावर्तित होता है इस प्रक्रिया में पानी बर्तन के साइडों अथवा किनारों से ताप लेता है और जिस बर्तन में पकाया जा रहा है ता बहुत अधिक हो जाता है भोजन के उबलने की क्रिया शुरू हो जाती है पानी ताप का कुचालक होता है इसलिए अन् तरल पदार्थों की अपेक्षा इसे अधिक तापमान की आवश्यकता होती ह इस प्रकार पानी के उबलने का तापमान 100 डिग्री सेल्सियस है तथा अधिक तापमान पर उसके स्वरूप में बदलाव आने लगता है.
3- भाप द्वारा पकाना- भाप में पकाने के लिए एक माध्यम यह बिना पानी के कुकिंग है इस विधि द्वारा पकाने में नमी दार तापमान की आवश्यकता होती है भोजन थोड़े पानी में भाग द्वारा पकाया जाता है तथा पानी रहित को किन में खाद्य पदार्थ में उपलब्ध पानी को ही भाग के रूप में प्रयोग किया जाता है इस प्रकार प्रेशर कुकर एक ऐसा यंत्र है जिसके द्वारा कम समय में भोजन तैयार किया जाता है तथा प्रेशर बढ़ने से उबरने के लिए तापक्रम बिंदु में अपने आप बढ़ोतरी होती है आप द्वारा भोजन पकाने से खाद्य पदार्थ कुकर में निर्मित भाग में पक जाता है और आप में खाद्य पदार्थ पकने की प्रक्रिया कब तक चलती रहती है जब तक कि पदार्थ का तापमान विभाग के तापमान तक ना पहुंच जाए.
    बिना तेल /घी के मसाला बनाने का तरीका
सबसे पहले कड़ाही गरम कीजिए अब उसमें जीरा डालकर भूनें जब तक वह भूरे रंग का होने लगे और उसमें खुशबू आने लगे तब उसमें प्याज डालिए और धीरे-धीरे सर जी से चलाएं जब प्यार थोड़ा थोड़ा हंसने लगे तब उसमें थोड़ा थोड़ा पानी डालिए और फिर चलाएं और उसके बाद उसमें लहसुन और अदरक डालें यह तरीका तब तक दोहराएं जब तक प्यार हल्के भूरे रंग का ना हो जाए.
( नोट- पानी एक साथ नहीं डालेंगे क्योंकि उसमें उबले हुए खाने का स्वाद आने लगेगा)
अब इस प्रकार प्याज जब भूरे रंग का हो जाए तो उसमें पिसा हुआ टमाटर डाल दीजिए इसके बाद उसमें थोड़ा सा पानी डालकर भूनें तब तक ढूंढते रहे जब तक वह तेल की तरह पानी छोड़ने लगे तब उसमें हल्दी डालकर थोड़ी देर भूनें क्योंकि हल्दी को पकाने में समय लगता है अब उसके बाद उसमें नमक मिर्च धनिया डालकर थोड़ी देर भूमि इसके बाद इस मिश्रण में जो सब्जी या दाल बनानी हो वह डालें और पकाएं इस प्रकार अब आपका व्यंजन तैयार है व्यंजन बनाने के बाद उसमें गरम मसाला डालें और उस कटी हुई हरे धनिया की पत्ती से सजाएं.
फ्रेंड्स आज का हमारा यह आर्टिकल आपको कैसा लगा आप हमें like और comment करके जरूर बताएं और ऐसे ही मजेदार फैक्ट, टेक्निकल या ऐतिहासिक फैक्ट से रिलेटेड blog पढ़ने के लिए आप मेरे चैनल को Subscribe कीजिए, धन्यवाद.

3 comments

Thanks for the information sir.

Very valuable post sir, because health is wealth


EmoticonEmoticon