Monday, 9 August 2021

Goal Attainment | लक्ष्य की प्राप्ति

नमस्कार दोस्तों, यह बात उस समय की है जब स्वामी विवेकानंद अमेरिका के प्रवास पर थे। वहां भ्रमण के दौरान उन्होंने देखा कि एक पुल के पास कुछ लड़के नदी में तैर रहे अंडो पर निशाना लगाना लगा रहे थे, लेकिन किसी का निशाना सही नही लग रहा था। यह देखकर स्वामी जी ने एक लड़के से बंदूक ली और खुद निशाना लगाने लगे।
उन्होने पहला निशाना सही लगाया, निशाना एकदम सटीक लगा। उसके बाद स्वामी विवेकानंद जी ने एक के बाद एक बारह निशाने लगाये। सभी एकदम सही लक्ष्य पर लगे।
यह सब देखकर लड़कों ने उत्सुकतावश पूछा, आपने यह सब कैसे किया?



इस पर स्वामी जी ने बड़े ही विनम्रतापूर्वक  उत्तर दिया कि यह सब ध्यान कि शक्ति से संभव हुआ है।
उन्होंने लड़कों को सीख दी कि हमेशा एकाग्रचित होकर केवल लक्ष्य पर ध्यान दो, तभी लक्ष्यभेद संभव है।
ठीक यही बात हमारे जीवन में भी लागू  होती है, प्रत्येक मनुष्य के जीवन का प्रायः एक निश्चित लक्ष्य होता है। फिर भी संसार में ऐसे लोगों की कोई कमी नहीं, जिनका कोई लक्ष्य नहीं होता।
ऐसे मनुष्य ऐसे गेंदबाज की तरह होते हैं, जो गेंद तो लगातार फेकते रहते हैं, लेकिन वह कभी लक्ष्य यानि विकेट पर नहीं लगती।
इस प्रकार वास्तव में लक्ष्य से विहिन होना उस बिना पता लिखे उस लिफाफे के समान है, जो कभी भी कहीं भी नहीं पहुंच पाता। इसलिए यदि लक्ष्य निर्धारित नहीं होता तो परिणाम विपरीत होता है।
इसलिए आपको अपने जीवन में अपना लक्ष्य चुनकर उसे पाने के संकल्प के साथ आगे बढ़ना चाहिए।
इसप्रकार अपने लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में असफलताओं का आप पर कोई नकारात्मक असर भी नहीं होना चाहिए। लक्ष्य प्राप्ति की दिशा में कितना समय लग रहा है, उससे विचलित होने की भी आवश्यकता नहीं है। क्योंकि याद रहे कि अच्छा भोजन भी वही होता है जो धीमी आँच पर देर तक पके।
इसलिए हमें लगातार प्रयास करते रहना चाहिए। प्रयास जितना प्रभावी होगा, परिणाम उतना ही आपकी अपेक्षा के अनुरूप होगा। ऐसे में लक्ष्य जितनी शीघ्रता से तय कर लिया जाय उतना ही अच्छा होता है, क्योंकि इससे उसकी प्राप्ति के प्रयास भी उतनी ही शीघ्रता से प्राप्त हो पायेंगे।

दोस्तों  यह आर्टिकल आपको कैसी लगी , अपने कमेंट के माध्यम से हमें जरुर बताएं. 

धन्यवाद.  

>

Tuesday, 16 March 2021

Disha Patani Biography in Hindi | दिशा पटानी बायोग्राफी इन हिंदी

दोस्तों हाल ही में फिल्म राधे  को लेकर दिशा पटानी काफी चर्चा में रहीं हैं, जिसमे ये बॉलीवुड स्टार सलमान खान की एक्ट्रेस का किरदार निभा रही हैं. इसके अलावा इस फिल्म के अन्य को- स्टार रणदीप हुड्डा, जैकी श्रॉफ एवं मेघा आकाश भी हैं. यह एक एक्शन बेस्ड फिल्म है, जिसे  मशहूर डांसर प्रभुदेवा ने निर्देशित किया है. 
इस फिल्म का पहला पोस्टर अभी कुछ दिनों पहले ही दिशा पटानी ने अपने इन्स्टाग्राम अकाउंट पर पोस्ट किया था, जिसके बाद फ़िल्मी गलियारों से लेकर इन्टरनेट तक इस फिल्म को लेकर अचानक से चर्चा तेज़ हो गयी है.
 
तो आज के इस पोस्ट में हम आपको बॉलीवुड की इस उभरते  अदाकारा के बारे में विस्तार से बताने वाले हैं, इसलिए बने रहिए हमारे इस पोस्ट के साथ. 
दोस्तों अपने बेहतरीन अदाकारी से न सिर्फ भारतीय बल्कि दुनियाभर में मौजूद बॉलीवुड प्रसंशको को खूब आकर्षित किया है.
अगर बॉलीवुड फिल्मो की नज़र से देखा जाये तो उन्हें पहली बार  उनके कैरियर की सबसे पहली फिल्म "धोनी : एन अनटोल्ड स्टोरी" में देखा गया. इस फिल्म में इन्होंने क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी (सुशांत सिंह राजपूत) की पहली गर्लफ्रेंड प्रियंका का किरदार निभाया था. इस फ़िल्म में इन्होंने अपने जबर्दस्त अभिनय के द्वारा भारत के साथ- साथ विश्व भर में मौजूद बॉलीवुड फिल्मो के प्रसंशको को काफी आकर्षित किया. 
आपको बता दें कि  दिशा पटानी का करियर मुख्यतः एक मॉडल के रूप में वर्ष 2013 में शुरू हुआ था जिसमें ये "पोंड्स फेमिना मिस इंडिया" की प्रथम रनरअप रही थीं. 



                                 All Image Source:- Instagram


दिशा पटानी का जन्म और परिवार (Disha Patani born and family)-


दिशा पटानी का जन्म 13 जून सन 1992 में हुआ था. ये मूल रूप से  उत्तराखंड के पिथोरागढ़ की रहने वाली हैं, लेकिन बाद में इनका पूरा परिवार  उत्तर प्रदेश राज्य के बरेली शहर में आकर रहने लगा. इनके पिता का नाम श्री जगदीश सिंह पटानी है जो की उत्तर प्रदेश में ही एक  डीएसपी ऑफिसर के पद पर कार्यरत हैं. वहीँ इनकी माँ एक हाउसवाइफ हैं. दिशा की एक बड़ी बहन भी हैं, जिनका नाम ख़ुशबू पटानी है वहीँ इनका एक छोटा भाई है जिसका नाम सुर्यवंश पटानी है.


दिशा पटानी की व्यक्तिगत जानकारी (Disha Patani Biodata)-    


पूरा नाम                 दिशा पटानी

व्यवसाय                 मॉडल /अभिनेत्री

ऊँचाई                     170 सेमी

वजन                      50 किलोग्राम

जन्म स्थान            बरेली

राशि                       सिंह

धर्म                        हिन्दू

हॉबी                       पढना, ट्रेवलिंग ,जिम्नास्टिक, नृत्य

पसंदीदा अभिनेता   रणवीर कपूर, जिम कैरी, लिओनार्डो डीकैपरिओ


पसंदीदा अभिनेत्री   प्रियंका चोपड़ा, माधुरी दीक्षित , कटरीना कैफ
 
पसंदीदा फ़िल्म       बर्फी, एवेंज़र्स सीरीज 

वैवाहिक स्टेटस      अविवाहित

पसंदीदा फिल्म चरित्र   मुग़ल ए आज़म में अनारकली का किरदार
 
पसंदीदा फ़ूड           चाइनीज़ फ़ूड
 
पसंदीदा मिठाई       जलेबी, इमरती , राबड़ी, डोनट्स
 
पसंदीदा रंग            गुलाबी, सफ़ेद
 
पसंदीदा फुटवियर ब्रांड    प्यूमा
 
पसंदीदा हॉलिडे डेस्टिनेशन  मालदीव
 


दिशा पटानी की प्रारंभिक शिक्षा (Disha Patani Education)-


इन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा बरेली से ही शुरू की थी. इसके बाद वर्ष 2011 में इंटरमीडिएट की पढाई पूरी की. इसके बाद ये लखनऊ आ गयी और यहीं के "एमिटी यूनिवर्सिटी" से  बी.टेक (B.TECH) पाठ्यक्रम में एडमिशन लिया.  


दिशा पटानी का माडलिंग करियर (Disha Patani Modelling  Career)-


दिशा पटानी को बी टेक करने के दौरान ही किसी ने इनको माडलिंग के बारे में बताया जिससे ये काफी प्रभावित हुई और अपनी बीटेक की पढाई को बीच में ही छोड़कर मुंबई चली आई और यहाँ पर आकर माडलिंग करना शुरू कर दिया. इस तरह  इन्होंने अपने कैरियर की शुरुवात एक मॉडल के रूप में शुरू किया. 
माडलिंग के कैरियर में इनको सफलता तब  मिली जब वर्ष 2013 के पोंड्स  फेमिना मिस इंडिया में इनको  पहले रनर अप का ख़िताब हासिल हुआ. इसी दौरान दिशा के जानने वालो की संख्या दिन ब दिन बढती गयी. इसके बाद दिशा ने भारत में मशहूर "कैडबरी डेयरी मिल्क" चाकलेट का भी प्रचार किया.





दिशा पटानी की बॉलीवुड कैरियर (Disha Patani Bollywood Career)-

अगर दिशा पटानी के फ़िल्मी कैरियर की बात की जाये तो इसकी शुरुवात वर्ष 2015 में दक्षिण भारत के मशहूर निर्देशक पूरी जगन्नाथ की फ़िल्म "लोफर" से हुई. इस फिल्म में दिशा साउथ के एक्टर वरुण तेज़ के साथ दिखीं जिसमें  इनको एक हैदराबादी लड़की की भूमिका में स्क्रीन पर देखा गया.



इस फ़िल्म में इनके एक्टिंग की काफी  वाहवाही हुई एवं लोगों की तरफ से सकारात्मक प्रतिक्रिया आई.
दोस्तों दिशा पटानी के कैरियर में एक जबर्दस्त मोड़ तब आया जब वर्ष 2016 में इन्हें भारतीय क्रिकेट के सबसे सफ़ल कप्तान में शुमार एवं विकेटकीपर बल्लेबाज़ महेंद्र सिंह धोनी जीवनी पर बनी बायोपिक फिल्म "धोनी द  अनटोल्ड स्टोरी" में एक्टिंग करने का मौक़ा मिला.




इस फ़िल्म में इन्हें महेंद्र सिंह धोनी की पहली गर्लफ्रेंड ‘प्रियंका’ की भूमिका में देखा गया. इस फ़िल्म के एक्टर  रहे सुशांत सिंह राजपूत के साथ इनकी जोड़ी दर्शकों को खूब पसंद आयी जिसका परिणाम यह हुआ की फ़िल्म बॉक्स ऑफिस के साथ साथ इनके आलोचकों की दृष्टि में भी बहुत सफ़ल रही थी.




इस फिल्म की जबर्दस्त सफलता के बाद ही दिशा के बॉलीवुड कैरियर को एक नया आयाम मिला जिसके बाद इन्होंने फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा.
इन दोनों फिल्मो के अलावा  इन्होंने मशहूर बॉलीवुड अभिनेता जैकी श्रॉफ के बेटे टाइगर श्रॉफ के साथ एक म्यूजिक वीडियो ‘बेफिक्रे’ तथा ' कुंग फू योगा ' में नज़र आयी. 

दिशा पटानी की फ़िल्में ( Disha Patani Movies)-

1. लोफर (Loafer) 2015
2. एम एस धोनी: द अनटोल्ड स्टोरी (M.S Dhoni:The Untold Story) 2016 
3. कुंग फू योग (Kung Fu Yoga) 2017
3. बागी 2 (Baaghi 2) 2018
4. भारत (Bharat) 2019 
5. मलंग (Malang) 2020

Disha Patani Upcoming Movie-

राधे (Radhe) 2021-
राधे प्रभु देवा द्वारा निर्देशित और सलमान खान, सोहेल खान और अतुल अग्निहोत्री द्वारा निर्मित एक आगामी भारतीय हिंदी-भाषा की एक्शन फिल्म है।  फिल्म में सलमान खान, दिशा पटानी, रणदीप हुड्डा, जैकी श्रॉफ और मेघा आकाश हैं।  यह फिल्म 13 मई 2021 को ईद अल-फितर के दिन  सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली है।



  
 

दिशा पटानी अवार्ड (Disha Patani Award)-                                     

1. फ़िल्म "धोनी एन अनटोल्ड स्टोरी" के लिए स्क्रीन अवार्ड के तहत बेस्ट डेब्यू अवार्ड दिया गया 2016  
2. स्टारडस्ट अवार्ड फॉर बेस्ट एक्टिंग डेब्यू अवार्ड ( फीमेल) 2016  
3. आईफा फॉर स्टार डेब्यू ऑफ़ थे इयर (फीमेल) 2017 

दिशा पटानी का विवाद (Disha Patani Controversy)-

दोस्तों इनके जीवन में एक वाकया ऐसा भी आया जब इनका सामना विवादों से हुआ, क्योकि कुछ लोगों का कहना है कि दिशा पटानी अपनी उम्र छिपा रही हैं.
मीडिया के अनुसार इस विवाद की शुरुवात वर्ष  2012 में हुई जब दिशा द्वारा ज़ारी किये गये एक वीडियो में इन्होंने अपनी जन्म की तारीख को 13 जून सन 1992 बतायी थी.



इस समय इन्होंने अपना नाम दिशा पटानी की जगह दिशा पटनी बताया था. लेकिन कुछ समय बाद ही दिशा ने अपनी जन्म दिवस को  तीन वर्ष कम करके 27 जुलाई 1995 बतायी.
हालाँकि अभी तक इसकी कोई पुष्टि नहीं हुई है और दिशा अभी भी बॉलीवुड की सबसे कम उम्र की अभिनेत्रियों में  गिनी जाती  हैं.

दिशा पटानी बॉयफ्रेंड (Disha Patani Boyfriend)-

जहाँ तक  दिशा पटानी के बॉयफ्रेंड की बात है तो आपको बता दें की जब इन्होंने अपने माडलिंग कैरियर की शुरुवात की थी तो उस वक़्त ये एक टीवी कलाकार पार्थ समंथा को डेट कर रही थीं, लेकिन बाद में बॉलीवुड में आने के बाद अक्सर इन्हें टाइगर श्रॉफ के साथ देखा जाने लगा. 



इस प्रकार मीडिया के साथ इनके प्रसंशको के बीच यह धारणा सामान्य हो गयी कि दिशा पटानी के बॉयफ्रेंड टाइगर श्रॉफ हैं. हालाँकि अभी इस बात की पुष्टि दोनों में से किसी ने भी नहीं की है. लेकिन दिशा के द्वारा कई बार कहते हुए पाया गया कि टाइगर श्रॉफ ही उनके लिए "टू कूल" पर्सनालिटी हैं.




पशु पक्षियों से लगाव (Pet Lover) -

अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर दिशा अक्सर अपने पेट के साथ फोटो शेयर करती रहती हैं जिससे पता चलता है की उनको पशु - पक्षियों से काफी लगाव है. आप उनके इन्स्टाग्राम हैंडल पर उनको उनके पालतू के साथ कई सारे फोटोज देख सकते  हैं.






प्रकृति प्रेमी (Nature Lover)-

दिशा के सम्बन्ध में एक और खास बात यह है की वह प्रकृति प्रेमी भी हैं , अक्सर वह पहाड़ों एवं बीच के किनारे जाकर अपना कुछ समय व्यतीत करती है , इस दौरान वो प्रकृति द्वारा प्रदत्त उपहारों के बीच अपने जीवन के कुछ पलों का आनन्द लेती हैं जो इनके जीवन को एक नई ऊर्जा से भर देता है. इसके अलावा दिशा वीकेन्ड पर बीच का भी खूब आनन्द लेती हैं. 

 







दिशा पटानी से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ-


1. वह प्रियंका चोपड़ा को अपने रोल मॉडल के रूप में मानती हैं।
2. वह एक जानवर प्रेमी हैं, सोशल मीडिया अकाउंट पर कई बार  इन्हें अपने पेट के साथ देखा जाता है।
3. बॉलीवुड की एक और मशहूर डांसर नोरा फतेही को ये अपनी सबसे अच्छे मित्रों में से एक  मानती हैं।
4. वह एक शानदार डांसर और फिटनेस ट्रेनर भी हैं।
5. वर्ष 2013 मिस इंदौर प्रतियोगिता में दिशा उपविजेता रही थीं।
6.वह करण जौहर की फिल्म “No Sex Please” में काम करने वाली थी, परन्तु किसी कारणवश वह फिल्म नहीं     बन पाई।
7.नोएडा में बी. टेक की पढ़ाई के दौरान उन्हें मॉडलिंग का ऑफर मिला, जिसके कारण उन्हें अपनी पढ़ाई को बीच में छोड़कर, मुंबई चली गयीं।
8. फिल्मो में आने से पहले वह Indian ad world की एक लोकप्रिय चेहरा थीं।
9. वह टाइगर श्रॉफ के साथ फिल्म “बाघी : ए रिबेल फॉर लव” में कार्य करना चाहती थीं, परन्तु उनकी तुलना में श्रद्धा कपूर एक ज्यादा प्रख्यात अभिनेत्री थीं, इसलिए यह किरदार श्रद्धा कपूर की खाते  में चला गया।
10.वर्ष 2016 में, उन्होंने जैकी चैन के साथ “कुंग फू योगा” नामक फिल्म बनाई जो की काफी हिट रही थी। 
11. फिल्मों में आने से पहले दिशा पटानी का  सपना एक एयर फोर्स पायलट बनने का था।



दोस्तों आज का हमारा यह आर्टिकल आपको कैसा लगा हमें जरूर बताएं. अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग दिशा पटानी के बारे में जान सकें.


धन्यवाद.
>

Thursday, 21 January 2021

महान एथलीट टेरी फॉक्स का जीवन परिचय हिंदी में | Terry Fox Biography in Hindi

नमस्कार दोस्तों, कनाडा के महान व्यक्तित्व  टेरी फॉक्स को दुनिया एक एथलीट एवं  कैंसर अनुसंधान कार्यकर्ता के रूप में उनके नि:स्वार्थ समर्पण के लिए जानती है.
टेरेंस स्टेनली फॉक्स का जन्म 28 जुलाई, 1958 को विन्निपेग, मैनिटोबा रोलैंड फॉक्स में हुआ था। फॉक्स  अपने परिवार में तीन भाई-बहनों के साथ बड़े हुए और उनके अन्दर बचपन से ही  सदाचार एवं शिष्टाचार जैसे गुण विद्यमान थे.

टेरी फॉक्स को बचपन से ही खेलो से गहरा लगाव पैदा हो गया था, विशेषकर बास्केटबॉल के प्रति उनके अन्दर जबर्दस्त  जुनून था। शुरू - शुरू में जब वे बास्केटबाल खेलने के लिए मैदान में जाते लेकिन उनके कोच उन्हें ज्यादातर  बास्केटबॉल खेलने के स्थान पर मैदान में दौड़ने के लिए कहते और इस पर टेरी कुछ नहीं बोलते और फॉक्स अपने कोच के आज्ञा का पालन किया करते थे. 

Image Source- Instagram 
इस प्रकार वे घंटों मैदान का तब तक चक्कर लगाते रहते थे जब तक की वह पूरी तरह थक न जाते. उनके जीवन की एक और बात यह है की  टेरी फॉक्स अपनी पूरी गर्मियों की छुट्टियों को खेलों और अभ्यास करने में बिताते, इस तरह वो खेल की दुनिया के प्रति पुरे तन - मन से लग जाते .

टेरी के बारे में एक बात यह भी था की  फॉक्स की  ऊंचाई मात्र पांच फुट थी, जो की एक अच्छा बास्केटबाल खिलाड़ी बनने के लिए पर्याप्त नहीं था लेकिन टेरी के ऊपर तो बास्केटबाल का जूनून सवार था. क्योकि उन्होंने स्वयं से संकल्प कर लिया था की उसे एक दिन दुनिया को अपने कर्मो से महान बनकर दिखाना है. इस तरह  उनके इस सपने की शुरुवात अपने  हाई स्कूल बास्केटबॉल की टीम में जगह पाकर हुआ.
 
10 वीं  के बाद, उन्होंने  साइमन फ्रेजर यूनिवर्सिटी में एडमिशन  लिया, जहाँ पर जाकर उन्होंने 'कैनेियोलॉजी' की पढ़ाई की और यहाँ पर आकार उनकी चाहत एक  शारीरिक शिक्षा का  शिक्षक बनने की होने लगी।
अपने कॉलेज के दिनों यानि की  बारहवीं कक्षा में "सर्वश्रेष्ठ एथलीट" का खिताब  अपने नाम कर लिया। 


लेकिन  सन 1976 में अचानक उनके जिन्दगी में एक काला दिन भी आया जब घर लौटते समय टेरी फॉक्स एक पिकअप ट्रक से दुर्घटनाग्रस्त हो गए, और इस  दुर्घटना में उनका दायाँ पैर बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो चुका था.
इस तरह टेरी सिर्फ एक घायल घुटने के साथ जीवित रहा। इस एक्सीडेंट के बाद  उनके  घुटने में अक्सर  दर्द होने लगता लेकिन वे अपने खेलों के प्रति जूनून के आगे इस दर्द को भी अनदेखा कर देते और वह दर्द में भी खेलते. लेकिन एक दिन ऐसा भी आया जब उनके दाहिने पैर का  दर्द  असहनीय हो गया और उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां पर डॉक्टरों ने बताया की उन्हें ओस्टियोसारकोमा या रेयर बोन कैंसर नामक  बीमारी हो गया है।

इस स्थिति में उस समय डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि उनको अपने पैर को कटवाना होगा और कीमोथेरेपी की प्रक्रिया से  गुजरना होगा साथ ही उनको यह भी बताया गया की इस प्रक्रिया के बाद उनके जीवित रहने की संभावना मात्र 50 प्रतिशत ही रह जाएगी ।

दोस्तों इतना सब सुनने के बाद अगर कोई आम इन्सान होता तो उसके दिलों -दिमाग  में  क्या चल रहा होता, इसकी कोई कल्पना भी करके सहम जाता . लेकिन दुनिया के सबसे महान एथलिटो में से एक टेरी उनमे से नहीं थे और उन्होंने डॉक्टरों की बात मानते हुए अपना दायाँ पैर कटवा लिया.
इस तरह अपने दाहिने पैर को कटवाने के मात्र तीन सप्ताह के भीतर ही, फॉक्स एक कृत्रिम पैर की सहायता से चलने लगे और कुछ दिनों के बाद जल्द ही अपनी पुराने दिनचर्या को फिर से शुरू कर दिये। 

अस्पताल में उपचार के दौरान वह अपनी इस बीमारी वाली  बात से बहुत ज्यादा  व्यथित हो गए और सिर्फ यह सोचते कि उनके देश में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में अभी तक कैंसर और इसके उपचार के ऊपर कितना कम शोध हुआ है।
इसी दौरान  उन्होंने डिक ट्रम के बारे में भी पढ़ा, जिन्होंने न्यू यॉर्क शहर के एक बड़े विवाद को कैसे खत्म किया था जिससे उनको काफी प्रेरणा मिली। 

दोस्तों  टेरी फॉक्स डीक ट्रम के कार्य से वे इतने प्रभावित हुए की इसने उन्हें कनाडा में एक "क्रॉस कंट्री मैराथन" की शुरुवात करने के लिए दृढ़ संकल्पित  कर दिया, ताकि इस मैराथन से प्राप्त चंदे  से कैंसर जैसे जानलेवा  रोग के ऊपर अनुसंधान करने के लिए पर्याप्त धनराशि प्राप्त की जा सके। 
इस प्रकार उन्होंने इसके लिए प्रशिक्षण लेना शुरू किया और जल्द ही 1980 में उन्होंने अपने मैराथन को शुरू किया, जिसे उन्होंने  "मैराथन ऑफ होप" नाम दिया। 
अपने जिंदगी के सबसे बड़े लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उन्होंने "कनाडाई कैंसर सोसायटी" के साथ-साथ प्रायोजन के लिए कई कॉर्पोरेट फर्मों के समर्थन की घोषणा की।

इस तरह टेरी फॉक्स ने अपने  मैराथन की शुरुवात 'सेंट जॉन' से की और हर दिन लगभग 43 किमी तक दौड़े। शुरुआत में उनका सामना मिली- जुली  प्रतिक्रिया और कठोर मौसम के साथ हुई , लेकिन बाद में जब तक वह न्यूफ़ाउंडलैंड के पोर्ट औक्स बेसिक्स में पहुचते, तब तक उन्होंने 10,000 डॉलर से अधिक की धनराशि दान के रूप में प्राप्त कर चुके थे. जिससे उन्हें अपने सपने को पूरा करने एवं मैराथन को आगे भी जारी रखने के लिए काफी प्रेरणा मिली।




जब तक वह ओंटारियो के लिए रवाना होते , तब तक उनका पूरा देश उनके इस कार्य को पुरे दिल से सपोर्ट करने लगा और अब उन्हें एक राष्ट्रीय स्टार के रूप में प्रसिद्धि मिलने लगी । लेकिन दुर्भाग्य से सन 1980 में, टेरी फॉक्स की बीमारी ने उन्हें थंडर बे में पहुचने से ठीक पहले उनके इस मैराथन को रोकना शुरू कर दिया। अब तक, कैंसर उनके  फेफड़ों तक पहुँच चुका था जिसके कारण उन्हें  अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा जहाँ सन 1981 में मात्र 23 वर्ष की अल्प आयु में दुनिया के इस महान व्यक्ति की  मृत्यु हो गई। 



दोस्तों टेरी फॉक्स अपने जीवन में कुल 143 दिनों तक चले और  इस दौरान कुल 5,373 किमी की दूरी तय किये  और 1981 में 24 मिलियन डॉलर से भी अधिक धनराशि जुटाने में कामयाब रहे ।
टेरी फॉक्स फाउंडेशन आज भी फॉक्स की विरासत को आगे बढ़ाते हुए, कैंसर अनुसंधान के लिए धन इक्कठा  करता है। 2004 में फॉक्स को "द ग्रेटेस्ट कैनेडियन" के रूप में दूसरा स्थान दिया गया था और उनके नाम पर कई पार्क और इमारतें बनी हैं।

 ये भी पढ़ें-


अंत में हम अपने आर्टिकल के माध्यम से आपसे सिर्फ इतना बताना  चाहते हैं कि  चाहे किसी व्यक्ति के सामने कितनी भी बाधाएं एवं मुश्किलें क्यों न आये.  अगर उसके अन्दर दृढ़ संकल्प एवं प्रबल इच्छाशक्ति हो तो वह कुछ भी कर सकता है.

तो आज का हमारा यह आर्टिकल आपको कैसा लगा अपने कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं, साथ ही इस आर्टिकल को अपने सगे- सम्बन्धियों को शेयर करना न भूले. हो सकता है इस आर्टिकल को पढ़कर किसी के  जीवन में हमेशा के लिए सकारात्मक बदलाव आ जाये.

आर्टिलकल पढने के लिए आपका दिल से धन्यवाद.  
>

Wednesday, 13 January 2021

Virat Kohli Baby Name Photo in Hindi | विराट एवं अनुष्का के घर आयी नन्हीं परी

Virat Kohli Baby News-

दोस्तों दुनिया के महान बल्लेबाजों में से एक एवं मौजूदा इंडियन  क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के घर पर उस वक़्त ख़ुशी की लहर दौड़ गयी जब उनको पता चला की उनकी पत्नी अनुष्का शर्मा ने एक खुबसूरत नन्ही परी को जन्म दिया. सोमवार के दिन बेटी के जन्म के अवसर पर विराट  कोहली एवं उनका पूरा परिवार खूब  खुश है जिसकी जानकारी  विराट ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक पोस्ट करके यह जानकारी पूरी दुनिया के साथ शेयर की.




कोहली ने इस ट्वीट के माध्यम से  बताया कि , "हम दोनों को यह बताते हुए बेहद खुशी हो रही है कि हमारे घर बेटी हुई है. हम आपके प्यार और शुभकामनओं के लिए दिल से आभारी हैं. अनुष्का और हमारी बेटी, दोनों बिल्कुल ठीक हैं. हमारा यह सौभाग्य है कि हमें जिंदगी का यह चैप्टर अनुभव करने का मौका मिला. हम जानते हैं कि आप यह जरूर समझेंगे कि इस वक्त हमें थोड़ी प्राइवेसी चाहिए."




पिछले साल अगस्त महीने में किया था अनुष्का के प्रेगनेंट  होने का खुलासा -

आपको बता दें की विराट  ने पिछले वर्ष  के अगस्त माह में ही अपने सोशल मीडिया हैंडल पर एक पोस्ट के माध्यम से अपनी पत्नी एवं बॉलीवुड एक्ट्रेस  अनुष्का शर्मा के प्रेग्नेंट होने की जानकारी को अपने प्रसंशकों के साथ शेयर की  थी. इसके साथ ही विराट और अनुष्का के बारे में इस जानकारी के फैलने के बाद से ही दोनों ही ट्विटर पर तेज़ी से ट्रेंड होने  लगे थे. इस प्रकार दोनों के प्रसंसको के बीच विराट एवं अनुष्का के जीवन  के इस सबसे खुबसूरत लम्हें  को लेकर खुशी और उत्साह दिखने लगा था. इस प्रकार सोमवार को जब इनकी  बेटी इनके घर पर  आ ही गई है तो इस मौके पर पूरी दुनिया भर के इनके प्रसंशक इनकी परी की पहली झलक पाने को बेताब दिख रहे हैं 

विराट कोहली ने ट्वीट करके फैंस को बताया है कि अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma) ने 11 जनवरी की दोपहर को अपनी बेटी को जन्म दिया और डिलीवरी के बाद मां और बेटी दोनों की तबीयत पूरी तरह से ठीक है।




विराट कोहली के इस ट्वीट के बाद से ही लगातार उन्हें सोशल मीडिया पर बधाई संदेश भेजे जा रहे हैं। विराट कोहली ने फैंस और चाहने वालों से गुजारिश की है कि खुशी के इस समय में लोग उन्हें थोड़े दिनों के लिए अकेला छोड़ दें। जिससे उनका पूरा परिवार इस खुबसूरत लम्हे को पूरी तरह एन्जॉय कर पाए।

दूसरी तरफ मज़े की  बात यह भी है कि भारतीय क्रिकेट टीम के ज्यादातर  खिलाडियों  के घर पर पहले बेटी ने ही जन्म लिया जो की अपने आप में विशेष है. चाहे बात भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की हो या फिर  सौरव गांगुली, रोहित शर्मा, सुरेश रैना की हो . इन  खिलाडियों  पर अगर नज़र दौडाएं तो आप पाएंगे की इन सभी खिलाडियों ने  पहले बेटी को  ही जन्म दिया. इस तरह अब इस लिस्ट में विराट कोहली का नाम भी जुड़ गया है.


विराट कोहली और अनुष्का शर्मा के बेटी का नाम (Virat Kohli & Anushka Sharma's Babygirl Name)-

Virat Kohli and Anushka Sharma’s baby girl ‘Anvi’-

दोस्तों विराट एवं अनुष्का के बेटी के जन्म के साथ ही इनके प्रसंशको के बीच इनकी इस नन्ही परी के नाम को लेकर चर्चाएँ तेज़ हो गयी हैं, लेकिन पीपिंगमून की एक रिपोर्ट की मानें तो विराट कोहली और अनुष्का शर्मा ने अपनी बेटी का नाम अनवी (Anvi) रखा है। जिसके पीछे का रहस्य यह बताया जा रहा है की यह नाम एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा और क्रिकेटर विराट कोहली के नामों से मिलकर बना है।




‘अनवी’ का मतलब हिन्दू धर्म में पूजी जाने वाली देवी ‘लक्ष्मी जी’ का ही एक नाम है। मां लक्ष्मी को अनवी कहकर बुलाते हैं।

भारत में ‘अनवी’ को बहुत से लोग जंगल की देवी के रूप में भी पहचानते हैं। जैसा की आप लोग जानते हैं की  विराट कोहली और अनुष्का शर्मा दोनों ही प्रकृति प्रेमी  हैं, शायद यही कारण हो सकता है की  दोनों ने मिलकर अपनी बेटी का नाम ‘अनवी’ रखा है। कारण चाहे जो भी हो लेकिन मौजूदा समय ख़ुशी मनाने का है तो आप भी इस खुबसूरत लम्हे का लुत्फ़ उठाइए.

ये भी पढ़ें- विराट कोहली सफलता की कहानी | virat kohli biography in hindi


Virat Kohli Baby Photo -


Image Source - instagram 


आपको बता दें कि मौजूदा समय में भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के साथ 4 मैच की सीरीज खेल रही है जो की अब अपने अंतिम पड़ाव में है . इसके बाद विराट  कोहली अगले महीने इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सरज़मीन पर होने वाली टेस्ट सीरीज से भारतीय टीम में वापसी करेंगे. जहाँ इंग्लैंड क्रिकेट टीम चार टेस्ट, पांच टी20 और तीन वनडे मैचों की सीरीज के लिए भारत दौरे पर आ रही है. इस दौरे की शुरुआत पांच फरवरी को पहले टेस्ट के साथ होगी.

दोस्तों आज का यह पोस्ट आपको कैसा लगा हमें अपने कमेंट के माध्यम से जरूर बताइए. 

धन्यवाद.











>

Tuesday, 8 December 2020

इम्युनिटी पासपोर्ट क्या है | Immunity Passport for Covid 19 in Hindi

What is Immunity Passport-

नमस्कार दोस्तों, जैसा की आप सब जानते हैं की मौजूदा समय में कोरोनावायरस  ने पूरे दुनियाभर के अर्थव्यवस्था को बहुत  ज्यादा नुकसान पहुंचा दिया है. एक तरफ जहाँ  लॉकडाउन लगने के कारण हर छोटे- बड़े संगठन एवं फैक्ट्रीयो में कामकाज बंद  होने से कई देशों की  आर्थिक वृद्धिदर को नकारात्मक  स्थिति में जाने की संभावना का अनुमान लगाया गया है. हालांकि पूरी तरह से कामकाज बंद नहीं हुआ है क्योकि कुछ जगहों पर कामकाज धीरे-धीरे पहले की तरह पटरी पर लाया जा रहा है. बस इसी को ध्यान में रखते हुए इसके लिए दुनिया के कुछ देश इम्युनिटी पासपोर्ट (Immunity Passport) के आइडिया पर सोच - विचार कर रहे हैं.

आपको बता दें कि इम्युनिटी पासपोर्ट अथवा  रिस्क फ्री सर्टिफिकेट (Risk Free Certificate) उन लोगों को दिए जाने किए जाने की योजना है, जिनको पूर्व में कोरोना हो गया था लेकिन अब वे  पूरी तरह ठीक हो चुके हैं. एक दूसरी बात यह है की उन लोगों को  ये सर्टिफिकेट इस आधार पर जारी किए जाने की योजना है कि वर्तमान में कोरोना से ठीक हो चुके लोगों में एंटीबॉडीज पर्याप्त मात्रा में विकसित हो चुके हों और अब वे इन्फेक्शन से सुरक्षित हैं. इसप्रकार  ऐसे लोग अब यात्रा करने  या फिर अपने काम पर वापस लौटने में सक्षम हैं.





World Health Organisation (WHO) ने दी चेतावनी-

एक तरफ जहाँ विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का कहना है कि दुनियाभर की गवर्नमेंट को कथित “इम्युनिटी पासपोर्ट” या “रिस्क फ्री सर्टिफिकेट” पर अभी इतना विश्वास नहीं करना चाहिए. एक और बात WHO ने कहा है कि अभी तक इस बात का कोई सबूत नहीं मिला है कि जिन लोगों में संक्रमण से ठीक होने के बाद एंटीबॉडी विकसित हो चुके  हैं, उन्हें अब दोबारा संक्रमण नहीं होगा और अब वे कोरोना  से सुरक्षित हैं. 

विश्व स्वास्थ्य संगठन  ने यह भी चेताया है कि इस तरह के कदम कोरोना वायरस के संक्रमण को बढ़ाने वाले हो सकते हैं. यदि किसी को  लगेगा कि वे इम्यून हो गए हैं यानी की अब वे रीइन्फेक्शन से सुरक्षित हैं, तो वे एहतियात बरतना बंद कर सकते हैं जो की बाद में खतरनाक साबित हो सकता है.

SARS के वक्त भी हुआ था फिर से इन्फेक्शन-

इसी क्रम में एक तरफ विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO का कहना है कि सार्स (SARS) के मरीजों के फिर से \ बीमार होने के कई केस सामने आए थे जो की दुनिया के लिए ठीक नहीं है. WHO ने आगे बताया की सार्स के मरीजों के शरीर में तो एंटीबॉडीज बनीं , लेकिन इनमें से कई मरीजों में  एक वक्त के बाद एंटीबाडी बेअसर सी हो गईं. आपको बता दें की अब तक इस मामले में कोरोना के नतीजे अभी आने बाकी हैं.


एंटीबॉडीज को लेकर अध्ययन का रिपोर्ट-

विश्व स्वास्थ्य संगठन  ने एक संक्षिप्त नोट में कहा है कि ज्यादातर स्टडी यह  बताते हैं कि जो लोग एक बार कोरोना वायरस के  संक्रमण से  ठीक हो चुके हैं, उनके ब्लड  में एंटीबॉडीज उपस्थित  हैं और यह काफी मात्रा में हैं. वहीँ  कुछ व्यक्ति  ऐसे भी हैं, जिनके शरीर में एंटीबॉडीज का लेवल  अभी पर्याप्त नहीं है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अभी  तक ऐसा कोई अध्ययन नहीं हुआ है, जो इस बात की सिद्ध  करता है  कि किसी मानव शरीर में एंटीबॉडी की मौजूदगी बाद में कोरोना के रीइन्फेक्शन को रोकने में प्रभावी रूप से काम कर रहा  है, इसका मतलब यह हुआ की  किसी व्यक्ति को फिर से कोरोना वायरस का संक्रमण नहीं होगा. इस प्रकार  इम्युनिटी पासपोर्ट के द्वारा लोग एहतियात बरतने के प्रति लापरवाह भी कर सकते हैं, इसप्रकार   कोरोना का संक्रमण फैलना आगे भी जारी रहने का खतरा  बढ़ सकता है.


तो दोस्तों आज का यह पोस्ट आपको कैसा लगा हमें जरुर बताइए . अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया हो तो इसको अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूलें जिससे इम्युनिटी पासपोर्ट के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोगों को पता चल सके. 


धन्यवाद.


>

Monday, 7 December 2020

नताशा औघेय का जीवन परिचय हिंदी में | Natasha Aughey Biography in Hindi

दोस्तों, कैनेडियन अमेरिकन  फिटनेस आइकॉन, बॉडी बिल्डर एवं  पर्सनल ट्रेनर, नताशा औघेय अपनी परफेक्ट फिजिक के लिए न  केवल अपने देश में बल्कि पूरी दुनिया में काफी मशहूर हैं। अपने व्यवस्थित  दिनचर्या और हेल्दी आहार के दम पर उन्होंने एक मजबूत और लचीला शरीर बनाया है जिसके कारण आज दुनियाभर में उनके लाखों प्रसंशक हैं. ये अपने  Instagram और YouTube चैनल के माध्यम से लोगों को अच्छे फिटनेस एवं स्वास्थ्य के लिए प्रेरित करती रहती हैं.

तो आज के पोस्ट में हम आप लोगों को उनके जीवन के बारे में विस्तार से बताने वाले हैं इसलिए आप बने रहिए हमारे इस पोस्ट के साथ.  


प्रारम्भिक जीवन ( Natasha Aughey Early Life) -

 नताशा औघेय  का जन्म 18 मार्च सन 1993 को  ओटावा कनाडा में हुआ था. वह एक ईसाई फॅमिली से सम्बन्ध रखती हैं. जहाँ तक उनके माता- पिता की बात है तो आपको बता दें की नताशा अपने माता-पिता और भाई-बहनों के नाम अभी तक सार्वजनिक रूप से या सोशल मीडिया पर  नहीं बताती हैं। अब इसके पीछे क्या कारण है ये तो हम नहीं बता सकते लेकिन  एक साक्षात्कार में, उन्होंने बताया  कि उनके माता-पिता हमेशा से ही उनको फिटनेस के क्षेत्र में अपना करियर बनाने के लिए उसका समर्थन करते रहे हैं जिसका परिणाम आज सबके सामने है. उनके इंस्टाग्राम अकाउंट के मुताबिक, उनके परिवार में उनकी एक बहन है।





नताशा औघेय का बायोडाटा (Natasha Aughey Biodata) -


पूरा नाम                 नताशा औघेय 

निक नेम                नताशा  

जन्म                     18 मार्च 1993         

जन्म स्थान           ओटावा , कनाडा 

लिंग                      महिला 

राष्ट्रीयता              अमेरिकन 

उम्र                       27 साल 

उच्चतम शिक्षा      स्नातक 

वर्तमान पता         लोस अन्जेलोस , कैलिफ़ोर्निया , अमेरिका 

ऊँचाई                  5 फिट 6 इंच 

वजन                   62 किलोग्राम 

बॉडी की माप        36B-25-38 

आँखों का रंग       गहरा भूरा 

बालों का रंग        गहरा भूरा 

वैवाहिक स्थिति  अविवाहित 

कुल आय           400- 500 हजार अमेरिकी डॉलर 

इन्स्टाग्राम        natashaaughey

यूट्यूब              natashaaughey

फेसबुक            natashaaughey

ट्विटर             natashaaughey



शिक्षा (Education)-

अगर पढाई- लिखाई की बात करें तो आपको बता दें की नताशा औघेय ने ग्रेजुएशन तक की पढाई की है. इसके अलावा इन्होंने अपनी स्कूल की पढाई कनाडा से ही पूरी की थी.





कैरियर (Career) - 

अपनी युवावस्था से ही नताशा  फिटनेस की दुनिया में बहुत रुचि रही है।  रिपोर्ट के अनुसार, उसने अपने हाई स्कूल के दिनों में कार्डियो का अभ्यास शुरू कर दिया था. क्योकि नताशा को अपने बचपन के दिनों से ही बॉडीबिल्डिंग करना अच्छा लगता था जिसका परिणाम यह हुआ की  वह अपने किशोरावस्था से ही जिम में जाती और वहा खूब प्रैक्टिस किया करती थीं. शायद यही वो समय था जब नताशा को बॉडीबिल्डिंग की दुनिया पसंद आने लगी. कुछ वर्षों बाद इन्होंने एक जबर्दस्त बॉडी बना लिया. अगर कैरियर की नजर से देखा जाये तो एक पेशेवर बॉडी बिल्डर होने के नाते, नताशा ऑगहे ने विभिन्न फिटनेस प्रतियोगिताओं में भाग लिया। सूत्रों के अनुसार, उन्होंने 2013 में ओपीए ओटावा चैंपियनशिप, चित्रा और टाल में 6 वां स्थान हासिल किया।




इसके अलावा वह एक फिटनेस ट्रेनर के रूप में भी काम करती हैं। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, नताशा ने एक फिटनेस और स्वास्थ्य पूरक ब्रांड “EHP लैब्स” के लिए एक राजदूत के पद पर भी काम कर चुकी हैं.

सिर्फ इतना ही नहीं, वह कई अन्य फिटनेस ब्रांडों और उत्पादों को भी प्रमोट करती है. इसके अलावा यह प्रसिद्ध फिटनेस आइकन सोशल मीडिया इन्फ़्लुएन्शर भी हैं. इस तरह कुल मिलकर देखा जाये तो नताशा ने फिटनेस आइकॉन और बॉडीबिल्डिंग को ही अपना कैरियर बना लिया है.


ऊंचाई और वजन ( Natasha Aughey Height & Weight) -

अगर इनके कद की बात की जाये तो आपको बता दें की नताशा औघेय की ऊँचाई लगभग 5 फीट 6 इंच (मीटर 1.67 मीटर)  है। वहीँ नताशा  का बॉडीवेट लगभग 61.2 किलोग्राम (लगभग) है।





वर्कआउट और  डाइट (Natasha Aughey Workout & Diet) -

जहाँ तक इनके डाइट एवं वर्कआउट की बात है तो  नताशा ऑगहे सप्ताह के 6 दिन केंद्र में बॉडीबिल्डिंग की प्रशिक्षण लेती है, एक दिन आराम करती हैं।  वह अपने फिट शरीर को बनाए रखने के लिए वह अपने शरीर को फिट रखने के लिए संतुलित डाइट का बहुत ही अनुशासन से पालन करती हैं. अपने  डाइट में वेज  एवं नॉनवेज दोनों प्रकार के भोजन खाती हैं . उनका पसंदीदा व्यंजन चिकन, चावल और हरी सब्जियां हैं।  दूसरी  तरफ अपने  शरीर में प्रोटीन की आवश्यकता को पूरा करने के लिए  नताशा RedCon1, EHP लैब्स और अन्य प्रसिद्ध स्वास्थ्य उत्पादों को प्राथमिकता देती हैं. 


इन्स्टाग्राम पर रहती हैं एक्टिव (Natasha Aughey Instagram) -

दोस्तों आपको बता दें कि नताशा औघेय अपने इन्स्टाग्राम पेज  पर नियमित रूप से एक्टिव रहती हैं. ये अपने इन्स्टाग्राम अकाउंट पर अक्सर फिटनेस से सम्बंधित विडियो और फोटो अपने प्रसंशको के साथ शेयर करती रहती हैं.    




 नताशा औघेय  के बारे में कुछ रोचक तथ्य (Interesting Fact about Natasha Aughey) -


1. नताशा  को बचपन से ही बॉडी बिल्डिंग में दिलचस्पी है।

2. वह अपने स्कूल के दिनों में पेशेवर बॉडीबिल्डिंग करने लगी थी।

3. नताशा ऑगहे ने अपने दोस्तों के कहने पर अपनी फिटनेस तस्वीरें इंटरनेट पर पोस्ट करना शुरू कर दिया था     जिससे उनको दुनियाभर में लोग जानने लगे।

4. एक सफल करियर बनाने के लिए उसने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया।




5. कुछ समय बाद, नताशा ऑगहे ने विभिन्न स्वास्थ्य ब्रांडों के लिए एक फिटनेस मॉडल के रूप में काम करना      शुरू किया।

6. अपने बॉडीबिल्डिंग के कैरियर में उन्होंने  कई लोकप्रिय ब्रांडों के साथ काम किया जिसमें सेलेस्टियल बॉडीज़,    ब्लैकस्टोन लैब्स और अन्य शामिल हैं ।

7. मीडिया सूत्रों के अनुसार, नताशा ने CanFitPro से एक ट्रेनर प्रमाणपत्र (स्तर -1) भी अर्जित किया।

8. अब तक वह कई लोकप्रिय पत्रिकाओं के  लेखों में भी उनके बारे में बताया गया है।

9. इसके अलावा वह एक निजी फिटनेस ट्रेनर के रूप में भी काम करती हैं।

10. नताशा औघेय के पास  एक अपना खुद का  YouTube चैनल भी है, जिसका नाम उनके नाम पर ही है. इस यूट्यूब चैनल के माध्यम से अपने नियमित कसरत दिनचर्या और अपने प्रशंसकों के साथ स्वास्थ्य सुझाव भी पोस्ट करती रहती हैं ।


ये भी पढ़ें- मसाला किंग धर्मपाल गुलाटी का जीवन परिचय हिंदी में | Dharampal Gulati (MDH) Biography in Hindi

11. अगर  उनकी लव लाइफ की बात करें तो नताशा अभी तक सिंगल हैं और साल यानि की 2020 तक  उनका कोई बॉयफ्रेंड नहीं है. 

12. नताशा अपने instagram account पर काफी एक्टिव रहती हैं एवं अपने फ़ोटोज़ एवं वीडियोस को शेयर करती रहती हैं.

13. नताशा को प्रकृति से काफी लगाव है जिसके लिए वो अक्सर जंगलों एवं पहाड़ों पर घुमने के लिए जाती रहती हैं. 

14. नताशा ने अब तक लुइस-फिलिप जीन, शेरोन ब्रूनो और जेनाया होफर सहित अन्य बॉडी बिल्डरों के साथ काम कर चुकी हैं.

15. नताशा औघेय काफी मेहनती हैं एवं सप्ताह के 6 दिन वर्कआउट करती हैं एवं 1 दिन आराम करती  हैं.


दोस्तों हमारा आज का पोस्ट आपको कैसा लगा , हमें अपने कमेंट के माध्यम से जरुर बताइए . अगर यह पोस्ट आपको पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर कीजिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस फिटनेस आइकॉन के बारे में जान सकें.


धन्यवाद्.

>