Monday, 29 June 2020

सुशांत सिंह राजपूत की जीवनी हिंदी में | Sushant Singh Rajput Bio data in Hindi

Sushant Singh Rajput Biography in Hindi 
नमस्कार दोस्तों, सुशांत सिंह राजपूत एक बेहतरीन डांसर, टीवी एक्टर एवं उभरते हुए बॉलीवुड अभिनेता थे. अभी बीते दिनों बॉलीवुड के इस  उभरते हुए सुपरस्टार सुशांत सिंह राजपूत का हमारे बीच से जाना बहुत ही दुखद घटना है.
इस घटना से  ना केवल आप और हम बल्कि पूरी दुनिया के लोग इस दुखद समाचार  को सुनने के बाद अवाक रह  गए.
सभी लोग सोचने पर मजबूर हो गए कि आखिर इतना अच्छा अभिनेता अचानक  ऐसा  क्यों कर लिया जिसके बारे में सिर्फ विचार करने से लोग सहम जाते हैं.
मित्रों आज के इस पोस्ट में हम आप लोगों को उनके जीवन के प्रत्येक पहलुओं के बारे में स्टेप बाई स्टेप बताने वाले हैं तो आप  बने रहिए हमारे इस पोस्ट के साथ.
                                       

प्रारंभिक जीवन (Sushant Singh Rajput Birth) -
दुनिया भर के लोगों को अपने बेहतरीन एक्टिंग एवं डांसिंग के माध्यम से इंटरटेन  करने वाले अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत का जन्म 21 जनवरी सन 1986 को बिहार के छोटे से जगह पूर्णिया के एक छोटे से गांव मल्डीहा में हुआ था.
इनके पिता का नाम के. के सिंह (कृष्णा कुमार सिंह) जो कि एक रिटायर्ड सरकारी ऑफिसर थे. दूसरी तरफ इनकी माता उषा सिंह एक हाउसवाइफ थी.
इसके अलावा सुशांत सिंह की तीन बहने भी हैं जिनमें से एक बहन की मृत्यु हो चुकी है दूसरी बहन नीतू सिंह जो कि राज्य स्तर की क्रिकेटर है.तीसरी बहन का नाम श्वेता सिंह है.
वर्ष 2002 में सुशांत जब मात्र 16 साल  के थे तभी उनकी माता का देहांत हो गया जिसके बाद सुशांत के साथ इनका पूरा परिवार टूट सा गया था.
माताजी के अचानक से गुजरने के बाद इनका पूरा परिवार दिल्ली आकर रहने लगा. इनके  करीबियों की मानें तो सुशांत सिंह अपने माता के बहुत करीब थे जिसके कारण उनके इस दुनिया को  छोड़कर जाने के बाद  एकदम अलग-थलग एवं चुपचाप से रहने लगे.

Sushant Singh Rajput Biography in Hindi
एजुकेशन(Sushant Singh Rajput Education) -
मित्रों सुशांत सिंह बचपन से ही मेधावी छात्र रहे थे एवं इनको पढ़ाई लिखाई से बहुत प्यार था जिसके फलस्वरूप  ये पढ़ने लिखने में हमेशा अव्वल आते थे.
जहां तक इनकी शुरुआती शिक्षा की बात है तो इन्होंने अपनी स्कूल की पढ़ाई सेंट करेन्स  हाई स्कूल से की थी. बाद में उनके परिवार के दिल्ली आकर बस जाने के बाद इन्होंने  कुलाची हंसराज मॉडल स्कूल में एडमिशन ले लिया.
सुशांत पढ़ाई के साथ-साथ खेलों में भी काफी है अच्छे थे जिसके फलस्वरूप वे कालेज के क्रिकेट फुटबॉल व क्रिकेट टीम के साथ खेला करते थे. इनको क्रिकेट फुटबॉल एवं टेनिस से काफी लगाव था. 
इंटरमीडिएट की  पढ़ाई के बाद उन्होंने अपना एडमिशन दिल्ली टेक्निकल यूनिवर्सिटी में ले लिया. दोस्तों सुशांत के बारे में एक  रोचक बात क्या आप जानते हैं.
आपको बता दें कि उन्होंने AIEEE  एंट्रेंस एग्जाम में पूरे भारत में सातवां रैंक लाया था जो कि एक गर्व की बात है. वे  मैकेनिकल इंजीनियरिंग से पढाई कर रहे थे. लेकिन अचानक से डांस और फिल्मों से विशेष लगाव होने के कारण यह अपनी  इंजीनियरिंग की पढ़ाई बीच में ही छोड़ कर मुंबई चले आए.
                                         

Sushant Singh Rajput Biography in Hindi
कैरियर (Career) -
सुशांत सिंह के मुंबई आने के बाद ही उनके करियर की शुरुआत हुई. आपको बता दें कि सुशांत एक एक्टर के साथ एक बेहतरीन  डांसर भी थे.
शुरूआत  में मुंबई आने के बाद इन्होंने  बैकग्राउंड डांसर के रूप में अपने कैरियर की शुरूआत किया था. जिससे मुंबई जैसे इतने बड़े शहर में इनका गुजारा  अच्छे से हो सके.
कॉलेज के दिनों में सुशांत दोस्तों के साथ श्यामा देवी के डांसिंग ग्रुप से जुड़ गए थे जहाँ वो डांसिंग के विभिन्न स्किल को सीखे. हालांकि इनके पिताजी को इनका डांस  से लगाव  बिल्कुल भी पसंद नहीं था. 
डांस के प्रति उनके जुनून को देखते हुए इनके कोच  उनसे बहुत प्रभावित हुए मित्रों आपको बता दें की सुशांत सिंह  2006 के कॉमनवेल्थ गेम्स के शुरुवाती समारोह में डांस करने के लिए ऑस्ट्रेलिया गए थे.
सुशांत सिंह मुंबई आने के बाद एक डांस ग्रुप ज्वाइन कर लिया  जिसको मशहूर कोरियोग्राफर ऐश्ले लोबे  ट्रेनिंग दे रहे थे, जिससे इनका डांसिंग स्किल  बहुत निखर कर लोगों को सामने आया.
देखा जाए तो यही से इनके कैरियर की शुरुआत हुई और उसी समय ये  डांस के साथ थिएटर भी शुरू कर दिये.
करियर के शुरूवाती दिनों  में सुशांत बैकग्राउंड डांसर के तौर पर कार्य करते थे.
इसके अलावा उन्ही  दिनों सुशांत पार्ट टाइम जॉब भी करते थे जिससे पता चलता है कि ये  कितने संघर्षशील एवं मेहनती व्यक्ति थे.
इन्होंने अपने टीवी  करियर की शुरुआत स्टार प्लस के शो 'किस देश में है मेरा दिल' से शुरू की थी. इससे  सुशांत  पहली बार लोगों के नजर में आए और इसके बाद  एकता कपूर के प्रसिद्ध टीवी सीरियल 'पवित्र रिश्ता' में निभाए गए मानव के किरदार ने इन्हें  घर-घर में मशहूर कर दिया.
यहीं से सुशांत सिंह की फिल्मों में आने का दरवाजा खुल गया और विभिन्न फिल्म डायरेक्टर इनके टच में रहने लगे.
सुशांत सिंह राजपूत के जीवन के  टीवी सीरियल है (Sushant Singh Rajput Tv Seriel) -
1. किस देश में है मेरा दिल 
2. पवित्र रिश्ता 
3. जरा नच के दिखा 
4. झलक दिखला जा सीजन 4

दोस्तों सुशांत सिंह राजपूत का फिल्म इंडस्ट्री  से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं था . कोई फिल्मी बैकग्राउंड ना होने के कारण शुरू में इनके साथ बॉलीवुड की कोई भी अभिनेत्री इनके साथ काम करने के लिए तैयार नहीं थी. लेकिन कहते हैं ना कि अगर किसी चीज को पूरे दिल से चाहो तो पूरी कायनात तुम्हें उससे मिलाने में लग जाती है.
ठीक ऐसा ही सुशांत के साथ हुआ और सन 2014 में उनको पहली फिल्म 'काय पो चे' मिली जिसका डायरेक्टर अभिषेक कपूर जी थे.
इस फिल्म में उनके अपोजिट अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा थी. रिलीज़ होने के बाद यह  फिल्म काफी सफल रही थी और इससे भी अच्छी बात यह थी कि इस फिल्म में सुशांत की एक्टिंग को दर्शकों के साथ-साथ पूरे बॉलीवुड में सराहा गया.
इसके बाद  सन 2014 में फिल्म पीके में इन्होंने आमिर खान के साथ काम किया जिसमें उन्होंने एक छोटा सा किरदार सरफराज युसूफ के रूप में निभाया.
इस फिल्म में अपने बेहतरीन अदाकारी के वजह से दर्शकों के बीच काफी  प्रसिद्ध हो गए और पूरे बॉलीवुड के साथ दर्शकों के बीच अच्छे खासे चर्चा में आने लगे . लेकिन अभी सिर्फ शुरुवात था. 
दोस्तों इनके जीवन में सुनहरा पल तब आया जब साल 2016 में इनकी फिल्म'एम एस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी' आई.
इस फिल्म में उन्होंने भारतीय टीम के पूर्व कप्तान एवं दुनिया के सबसे शानदार विकेटकीपर में से एक 'महेंद्र सिंह धोनी' का किरदार निभाया था.
 पर्दे पर यह  फिल्म बहुत सफल रही और उस वक्त यह  सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों में से एक गिनी जाने लगी.
इस फिल्म के माध्यम से  सुशांत सिंह ने  अपने  एक्टिंग का पूरी दुनिया भर में लोहा मनवा लिया. हर तरफ इनके एक्टिंग के  चर्चे होने लगे.
आपको बता दें कि इस फिल्म के शूटिंग के वक्त धोनी खुद काफी समय के साथ रहे थे जिसका खुलासा इन्होंने एक इन्टरव्यू में किया था.
इसके बाद सुशांत कभी पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा और इनके खाते में लगातार एक के बाद एक फिल्में आती  गई जो कि नीचे  हैं.

Sushant Singh Rajput Bio in Hindi
सुशांत सिंह राजपूत की अब तक की फ़िल्में (Sushant Singh Rajput Movies) -
1. काय पो चे 2013 
2. शुद्ध देशी रोमांस  2013
3. पी के 2014
4. डीटेक्टिव  व्योमकेश बख्शी 2015
5. एम एस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी 2016
6. राबता 2017
7. केदारनाथ 2018 
8. सोनचिरैया 2019
9. छिछोरे 2019
10. ड्राइव 2019
11. दिल बेचारा 2020 (अंतिम फिल्म)

सुशांत सिंह राजपूत की आने वाली फिल्म (Sushant Singh Rajput upcoming Movies)-
दिल बेचारा सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म रही है जो जल्द ही रिलीज़ होने वाली है , दोस्तों इस फिल्म को मै  देखूंगा और आशा करता हूँ की आप लोग भी इस फिल्म को जरूर देखेंगे.
                     
                                   
 
सुशांत सिंह राजपूत गर्लफ्रेंड (Sushant Singh Rajput Girlfriend)-
अगर सुशांत सिंह राजपूत के जीवन में गर्लफ्रेंड  की बात करें तो इनके सीरियल पवित्र रिश्ता की इनकी को एक्टर अंकिता लोखंडे से इनका अफेयर चल रहा था. हालाँकि इसके अलावा फिल्म एक्ट्रेस कृति सैनन के साथ इनके अफेयर की खबर मीडिया में आयी थी. लेकिन इनके करीबियों की मानें तो पिछले कुछ समय से ये अंकिता लोखंडे के साथ लिव इन रिलेशनशिप में रह रहे थे.
                                        


सुशांत सिंह राजपूत की संपत्ति (Sushant Singh Rajput Net Worth)-
अगर सुशांत के कुल नेटवर्थ की बात की जाए तो मौजूदा समय में इनके बैंक अकाउंट के मुताबिक  इनकी कुल आय लगभग 60 करोड़ रूपये है.
                                             

सुशांत सिंह राजपूत के शौक (Sushant Singh Rajput Hobbies) -
 
सुशांत सिंह को महँगी कारों एवं बाइको  का शौक था जिसका जिक्र ये धोनी के गाडियों  को देखने के बाद किये भी थे. उनके पास महंगी कारें और एक बी एम डब्लू की बाइक भी थी जिससे अक्सर वो इधर घूमने जाया करते थे.
जहाँ  तक खाने की बात है तो इन्हें खाने में आलू के पराठे, राजमा चावल, पूरन पोली, चिकन और पास्ता बहुत पसंद थे.
इसके अलावा सुशांत सिंह क्रिकेट, डांस और वीडियो गेम खेलना भी काफी पसंद करते थे. इनका क्रिकेट से लगाव के बारे में सबको पता है.
जानवरों से प्यार (Sushant Singh Rajput Dog Love)-  
इसके अलावा सुशांत सिंह के पास एक कुत्ता भी था जो हमेशा जब भी वो अपने घर में रहते वो उनके साथ ही रहता. अक्सर सोशल मीडिया अकाउंट पर इनको इनके कुत्ते के साथ देखा गया था जिससे पता चलता है की ये जानवरों से बहोत प्रेम करते थे.
                                  
 
सुशांत सिंह राजपूत को अब तक मिले अवार्ड (Sushant Singh Rajput Award List) -
 
1. Big Star Most Entertaining Television Actor 2010 - Pavitra Rishta 

2. ITA Award for Desh ka Sitara Best Actor 2010 - Pavitra Rishta

3. Screen Award for Best Male Debut 2014 - Kai Po Che
 
4. Guild Award for best Male Debut 2014 - Kai Po Che

5. Screen Award for Best Actor (Critics) 2016 - MS. Dhoni The Untold Story

मृत्यु (Sushant Singh Rajput Death) -
दोस्तों सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु अभी हाल ही में 14 जून 2020 को मुंबई के बांद्रा स्थित उनके अपार्टमेंट  में अचानक से फांसी लगाने के कारण हुई जिससे पूरी दुनिया के  लोग इस बेहद दुखद घटना को सुनकर अवाक रह गए. 
इनके मृत्यु का वास्तविक कारण का तो अभी तक कुछ पता नहीं चला है पर इतना तो तय है कि कोई न कोई ऐसी चीज जरूर रही होगी जिससे इतने आहत हो गए कि उन्होंने अपना जीवन खत्म करने का फैसला ले लिया.
लेकिन इनके करीबियों की मानें तो बताया जा रहा है की सुशांत सिंह राजपूत पिछले 6 महीनों से डीप्रेशन से जूझ रहे थे.
दोस्तों एक बार फिर से बताना चाहता हूँ कि  सुशांत सिंह राजपूत एक बेहद ही शानदार डांसर, टीवी एक्टर, एवं बॉलीवुड के  उभरते हुए सुपरस्टार थे जो कि अब इस दुनिया में नहीं रहे.
इस बेहद  दुखद घटना को सुनने के बाद में व्यक्तिगत रूप से बहुत दुखी हुआ और ईश्वर से यही प्रार्थना करता हूं कि भविष्य में आगे से कोई भी व्यक्ति ऐसा कदम ना उठाए. मेरी संवेदनाएं हमेशा सुशांत सिंह राजपूत के परिवार के साथ हैं.
दोस्तों आज का हमारा यह लेख कैसा लगा. अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आया  हो तो इसे अपने फेसबुक, व्हाट्स एप एवं  दोस्तों व  रिश्तेदारों के साथ जरूर शेयर करें. जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग हमारे इस लेख के माध्यम से सुशांत सिंह राजपूत के बारे में जान सकेंगे. 
धन्यवाद् . 






>

Tuesday, 23 June 2020

अटल बिहारी वाजपेयी जीवन परिचय | Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi


अटल बिहारी वाजपेयी जीवन परिचय | Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi
नमस्कार दोस्तों, आप सभी का स्वागत है आपके अपने पसंदीदा वेबसाइट पे, आज के इस आर्टिकल में हम आप लोगों को भारत के एक महान व्यक्तित्व ,कवि एवं पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के जीवन के बारे में बताने वाला हू. तो देर किस बात की चलिए शुरू करते हैं.
अटल बिहारी वाजपेयी  हमारे देश के एक पूर्व प्रधानमंत्री रहे हैं, जिन्हें भारतीय राजनीति में अपना काफी सहयोग  दिया हुआ है. अटल  जी कि छवि हमेशा से ही काफी साफ- सुथरी  रही है और इसी के कारण इनका मान- सम्मान न केवल इनकी पार्टी, बीजेपी के द्वारा किया जाता है, बल्कि विपक्षि पार्टियों  द्वारा भी किया जाता है.
इस बात से पता चलता है की अटल जी कितने सरल स्वभाव के साथ एक महान एवं प्रभावशाली व्यक्तिव थे.
     
                         
 

अटल बिहारी वाजपेयी जी अपने 93 वर्ष के जीवन में भारत माता को बहुत कुछ दिए. इन्होंने  हमारे देश के प्रधानमंत्री  रहते हुए देश की तरक्की के लिए बहोत  सारे कार्य किए. इनके द्वारा हमारे देश को दी गई सेवाओँ के कारण  ही, इनको  वर्ष  2015 में भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान, भारत रत्न से भी सुशोभित  जा चुका है. इसके अलावा इनके जन्मदिन  को भारत सरकार  द्वारा सुशासन दिवस के रूप में भी घोषित किया है.

अटल बिहारी वाजपेयी जीवन परिचय | Atal Bihari Vajpayee Biography in Hindi

अटल बिहारी वाजपेयी से सम्बंधित  जानकारी–

पूरा  नाम (Name)- अटल बिहारी वाजपेयी

निक नेम  (Nick Name)- अटल जी

जन्मदिन (Birthday)- 25 दिसम्बर 1924

जन्म स्थान (Birth Place)- ग्वालियर, भारत

राशि (Zodiac)- मकर राशि

नागरिकता (Citizenship)- भारतीय

गृह नगर (Hometown)- ग्वालियर, म.प्र

शिक्षा (Education)- कला स्नातक और लॉ स्नातक

धर्म (Religion)- हिन्दू

घर का पता (Home Address)- 6-ए, कृष्णा मेनन मार्ग, नई दिल्ली – 110011

भाषा का ज्ञान (Language)- हिंदी

पेशा (Occupation)- राजनीतिज्ञ, पूर्व प्रधानमंत्री

पार्टी का नाम- भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)

कुल संपत्ति (Net Worth)- 2 मिलियन डॉलर


जन्म और परिवार (Birth and Family)-

अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म मध्य प्रदेश के  ग्वालियर शहर  में सन् 1924 में हुआ था. इनके पिता का नाम श्री कृष्णा बिहारी जो की पेशे से एक कवि और अध्यापक थे, और इनका माता का  नाम श्री मती कृष्णा देवी थाजो की एक गृहिणी थीं.
अटल बिहारी वाजपेयी जी का परिवार काफी बड़ा था जिसमे इनके  माता -पिता की कुल सात संताने थीं, जिनमें से अटल जी के चार भाई और तीन बहनें थी.

वैवाहिक जीवन -
मित्रों जहा तक इनके वैवाहिक जीवन की बात है तो मई आपको बता दू की अटल  जी ने अपने जीवन में किसी से भी विवाह नहीं किया और ये जीवन भर अविवाहित ही रहे. हालांकि इनकी एक दत्तक पुत्री है जिसका नाम  नमिता भट्टाचार्य है.

अटल बिहारी वाजपेयी के परिवार के बारे में जानकारी (Family Information)-

पिता का नाम (Father’s name)-कृष्णा बिहारी वाजपेयी
माता का नाम (Mother’s name)-कृष्णा देवी
दादा का नाम (Grandfather’s Name)-पंडित श्याम लाल वाजपेयी
कुल भाई बहने (Totle Sibling)- छह
पत्नी का नाम (Wife’s Name )–  अविवाहित 
बेटी का नाम (Daughter’s Name)- नमिता भट्टाचार्य (दत्तक पुत्री)

भाई बहनों के नाम (Brothers, Sisters Name )भाईयों के नाम-

1. प्रेम बिहारी वाजपेयी

2. अवध बिहारी वाजपेयी

3. सुदा बिहारी वाजपेयी

बहनों के नाम-

1. विमला मिश्रा,

2. उर्मिला मिश्रा 

3. कमला देवी

अटल बिहारी वाजपेयी की जीवन से जुड़ी निजी जानकारी (Personal Information)-

1. दोस्तों अटल जी के पूर्वजों का संबंध उत्तर प्रदेश के आगरा के बटेश्वर गांव से था और इनके दादा पंडित श्याम लाल वाजपेयी,जी कि बाद में  आगरा से मध्य प्रदेश में जाकर बस गए थे.
2. जहा तक पढाई की बात है तो अटल जी अपने जीवन में पढ़ाई में काफी तेज हुआ करते थे और इन्होंने राजनीति विज्ञान में प्रथम श्रेणी में स्नातकोत्तर डिग्री हासिल की हुई थी.
कालांतर में अटल बिहारी जी ने कानपुर विश्वविद्यालय से  वकालत की पढ़ाई करने के लिए दाखिला लिया था. मित्रों उस दौरान आश्चर्य  की बात तो यह है कि इस कॉलेज में इनके साथ इनके पिता ने भी दाखिला लिया और पढाई के दौरान हास्टल में पिता - पुत्र  एक ही रूम में रहते थे.
3. अपने जीवन में अटल जी एक पत्रकार बनना चाहते थे और इन्होंने कई अखबारों में कार्य भी किया था . जिन अखबारों में इन्होंने कार्य किया  उनके नाम इस प्रकार हैं- राष्ट्र धर्म, पंचंज्य, दैनिक समाचार, वीर अर्जुन और स्वदेश अखबार. हालांकि बाद में अटल जी ने कुछ समय बाद पत्रकारिता छोड़ दी थी और ये राजनीति में आ गए थे.
4. अटल बिहारी वाजपेयी एक अच्छे राजनेता होने के साथ - साथ उच्चकोटि के कवी भी थे. इसीलिए अटल जी का नाम भारत के बेहतरीन हिंदी कवियों में गिना जाता है और बाद में एक इंटरव्यू  में इन्होंने इस बात को स्वीकार  भी किया था कि इन्हें राजनीति में कोई रुचि नहीं थी और ये हमेशा से एक कवि बनना चाहते थे.
दोस्तों  एक अच्छा राजनेता बनने के बाद भी अटल जी नियमित रूप से कविताएं लिखा करते थे और जब भी ये कहीं भाषण देने जाया करते थे तो इनके भाषण में एक से एक कविताएं सुनने को  जरूर मिलती थी. जो दर्शकों को इनके तरफ बहोत तेजी से आकर्षित करती थी.
5. अटल जी पहले  ऐसे व्यक्ति थे, जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र के अंतरराष्ट्रीय मंच पर पहली बार भारत के प्रतिनिधि के रूप  में हिंदी भाषा में भाषण  दी थी.
6. अटल बिहारी वाजपेयी जी खाने के बहोत शौक़ीन थे इसका अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है की अटल जी का सम्बन्ध  एक ब्राह्मण परिवार से होते हुए भी वे नॉनवेज थे. जिसके कारण कई बार  अपने खाने के शौक को पूरा करने के लिए  दिल्ली के चांदनी चौक में स्थित  करीम के  रेस्टोरेंट पे पहुच जाया करते थे. ऐसा माना जाता है की करीम का रेस्टोरेंट इनका पसंदीदा रेस्टोरेंट था. इसके अलावा अटल जी को फिश बहोत पसंद था.

अटल बिहारी वाजपेयी का लुक (Looks Table)-
दोस्तों अटल बिहारी वाजपेयी जी जब  93  वर्ष के थे तो वे अक्सर अस्वस्थ रहने के कारण  काफी  समय से व्हील  चेयर पर रहने लगे  और बहोत कम ही लोगों से ये मिल और बातचीत कर पाते थे. हालांकि ये अपने जवानी के दिनों में  काफी आकर्षक व्यक्तित्व के हुआ करते थे. 

इनका लुक इस प्रकार था :-

रंग (color)- गेहुँआ

लम्बाई (Height)- 5’ 6 फीट इन्च

वजन (Weight)- 76 किलो

आंखों का रंग (Eye color)- काला

बालों का रंग (Hair color)- सफेद

शिक्षा (Education)-
दोस्तों अटल जी के साथ-साथ  इनके परिवार के सदस्य भी काफी पढ़े लिखे थे. इससे पता चलता है कि अटल जी के  परिवार में पढ़ाई- लिखाई  को काफी महत्व दिया जाता था.
अटल जी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सरस्वती शिशु मंदिर, गोरखी, बारा, ग्वालियर से हासिल की थी. इसके बाद इन्होंने अपनी  कॉलेज कि डिग्री विक्टोरिया कॉलेज ग्वालियर से पूरी की  और बाद में इन्होंने अपनी  उच्चतम शिक्षा के रूप में राजनितिक शास्त्र में एम. ए. किया.

राजनैतिक जीवन (Political life)- 
दोस्तों अटल बिहारी वाजपेयी जी ने अपने राजनैतिक जीवन की शुरुवात स्वतंत्रता सेनानी के रूप में शुरू  किया था. अटल जी उस समय डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी को अपना आदर्श  मानते थे और इसलिए इन्होंने डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पार्टी भारतीय जनसंघ (बीजेएस), जो कि एक हिंदू राइट विंग राजनीतिक दल था, को ज्वाइन  कर लिया था.
भारतीय जनसंघ पार्टी से जुड़ने के बाद अटल जी को उत्तरी क्षेत्र का राष्ट्रीय सचिव बना दिया गया था और इसी पार्टी से अटल जी ने पहली बार लोकसभा चुनाव भी लड़ा था.
इन्होंने वर्ष  1957 में अपने जीवन का पहला लोकसभा चुनाव बलरामपुर, जो कि उत्तर प्रदेश का एक जिला है, वहां से लड़ा था. और इस सीट से ही इन्होंने भारतीय राजनीति में अपनी पहली जीत भी दर्ज करवाई थी.
दोस्तों बाद में अटल जी के कार्यों को देखते हुए इन्हें साल 1968 में जनसंघ के राष्ट्रीय प्रेजिडेंट बना दिया गया.
अटल बिहारी वाजपेयी ने साल 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री मती इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आंतरिक आपातकाल के खिलाफ जयप्रकाश नारायण (जेपी) द्वारा शुरू किए गए कुल क्रांति आंदोलन में भी भाग लिया था.
इस आंदोलन के कुछ वर्षो के  बाद यानी कि 1977 में इंदिरा गांधी सरकार से मुकाबला करने के लिए इनकी जनसंघ पार्टी ने जनता पार्टी के साथ गठबंधन कर लिया था.
इसके बाद वर्ष 1977 में मोरारजी देसाई के नेतृत्व में इनकी पार्टी को जीत मिली. इसा जीत के साथ ही मोरार जी देसाई  ने अटल बिहारी वाजपेयी को केंद्रीय मंत्री बना दिया था और इन्हें विदेश मामलों का मंत्रालय मिला था. बतौर विदेश मंत्री रहते हुए, वाजपेयी जी ने विदेश में अपनी मातृभाषा हिंदी  में भाषण  दी थी.
वर्ष  1979 में कुछ  कारणों से  मोरारजी देसाई की सरकार गिर गई थी और इसके कारण अटल  जी को भी अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था.

भारतीय जनता पार्टी की शुरुवात -
अटल जी अपना मंत्रालय छोड़ने के एक वर्ष  बाद  लालकृष्ण आडवाणी, भैरों सिंह शेखावत और बीजेएस पार्टी के अन्य नेताओं और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के साथ मिलकर वर्ष 1980 में भारतीय जनता पार्टी का गठन किया. पार्टी बनाने के बाद इन लोगों ने भारतीय जनता पार्टी का बहोत विस्तार किया जिससे वर्ष  1980 में बनीं ये पार्टी बहोत कम  समय के अंदर ही कांग्रेस पार्टी की प्रतिद्वंदी  पार्टी बन गई.

अटल बिहारी वाजपेयी का एक राजनेता से भारत के प्रधानमंत्री तक का सफर-
भारतीय जनता पार्टी को पहली बार लोकसभा चुनाव में  वर्ष 1996 में जीत मिली थी. इस प्रकार  इनकी पार्टी ने पहली बार  देश में अपनी सरकार बनाई थी.
इसी के साथ इनकी पार्टी के तरफ  से अटल बिहारी वाजपेयी को प्रधानमंत्री बनाया गया था और इस प्रकार ये हमारे देश के 10 वे प्रधानमंत्री बने  थे.
हालांकि किन्ही राजनीतिक कारणों के चलते बीजेपी की ये सरकार महज 13 दिनों के अंदर ही गिर गई थी और इसी के साथ अटल बिहारी वाजपेयी को अपना पद से इस्तीफा देना  पड़ा था.
इस प्रकार सरकार गिरने के महज दो साल बाद, एक बार फिर से ये नेशनल डेमोक्रेट एलायंस केंद्रीय में अपनी सरकार बनाने में कामयाब हो गए और इस तरह से वर्ष  1998 में अटल  जी एक बार फिर से हमारे देश के प्रधानमंत्री बनने में सफल  हुए थे .

अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा बतौर प्रधानमंत्री  रहते हुए किए गए कार्य-
दोस्तों अटल जी के दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद इन्होंने  अपने देश के लिए कई तरह के महत्वपूर्ण फैसले लिए  और भारत को और सशक्त  देश बनाने में सफल हुए.
दुसरे देशों के साथ मजबूत सम्बन्ध-
अटल जी के कार्यकाल में ही भारत ने आर्थिक क्षेत्र में काफी विकास किया इसके अलावा अमेरिका ,रूस ,जापान जैसे देशों के साथ आर्थिक एवं व्यक्तिगत रिश्ते काफी मजबूत किये .
परमाणु परीक्षण -
अटल जी अपने दुसरे प्रधानमंत्री कार्यकाल में  मई, 1998 में राजस्थान में सफल परमाणु परीक्षण किया गया था. जिसके बाद भारत का दुनिया भर में बहोत मान बढ़ गया .
भारत-पाकिस्तान बस सेवा की शुरुवात-
इसके अलावा अटल जी के कार्यकाल में ही भारत - पाकिस्तान  बस सेवा की शुरुवात की गयी थी.

मृत्यु(Death)- 
दोस्तों अटल बिहारी वाजपेयी की  मृत्यु 16 अगस्त 2018 में दिल्ली के एम्स हॉस्पिटल में हुयी थी. इसके साथ ही भारत माँ यह लाल हमेशा के लिए इस दुनिया को छोड़कर चला गया.
तो दोस्तों आज का यह आर्टिकल आपको कैसा लगा आप हमें अपने कमेंट के माध्यम से जरूर बताइए .अगर यह पोस्ट आपको पसंद आयी हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ शेयर करना ना भूलें.
धन्यवाद.

>

Thursday, 18 June 2020

इम्युनिटी बढ़ाने के प्राकृतिक तरीके | Natural Ways to Increase Immunity in Hindi

इम्युनिटी बढ़ाने के प्राकृतिक तरीके | Natural Ways To Increase Immunity in Hindi

इम्युनिटी बढ़ाने के प्राकृतिक तरीके
Natural Ways To Increase Immunity in Hindi

इम्युनिटी क्या है ?  / Immunity in Hindi
नमस्कार दोस्तों, इम्यूनिटी या प्रतिरोधक क्षमता हमारे शरीर का वह कवच होता है जो बैक्टीरिया, वायरस और अनेकों बीमारियों से हमारे शरीर की रक्षा करता है। बुरी आदतों की वजह से या बुढ़ापा आने के कारण इम्यूनिटी कमजोर होने लगती है और जैसे ही इम्यूनिटी कमजोर होती है बीमारियां शरीर पर धावा बोल देती है। यदि आपके शरीर की इम्युनिटी हमेशा मजबूत रहे तो आप ज्यादातर बीमारियों से बचे रह सकते हैं और एक स्वस्थ जीवन जी सकते हैं।

आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि-

1. इम्यूनिटी कमजोर होने के कौन-कौन से कारण होते हैं.
2. आप अपनी इम्यूनिटी को कैसे प्राकृतिक तरीके से मजबूत बना सकते हैं
तो मित्रों आइए सबसे पहले जानते हैं कि इम्यूनिटी कमजोर होने के कौन कौन से कारण हो सकते हैं।


इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण-

1. खराब खान-पान – आज के समय में जिस प्रकार की लाइफ स्टाइल और जिस प्रकार का खानपान ज्यादातर लोगों का हो चला है वह हमारी प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर कर रहा है। लोग बैलेंस डाइट तो दूर सिर्फ और सिर्फ स्वाद के लिए खाना खा रहे हैं, जिसके कारण जंक फूड का सेवन लगातार बढ़ता चला जा रहा है। जंक फूड में केमिकल और फैट की मात्रा बहुत ज्यादा होती है जो आपके शरीर को और आपके इम्यून सिस्टम को नुकसान पहुंचाती है।
        
                



2. तनाव – आज कि भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव लोगों की जिंदगी का एक बड़ा हिस्सा बन चुका है। ज्यादातर लोग अपना अधिकतर समय तनाव में बिता रहे हैं जिसके कारण उनके खून में कोर्टिसोल की मात्रा लगातार बढ़ रही है और इस वजह से उनकी इम्यूनिटी लगातार कमज़ोर होती चली जा रही है।

3. कम नींद लेना – कई रिसर्च में यह बात सामने आ चुकी है कि जब कोई व्यक्ति कम नींद लेता है तो उसका सीधा असर शरीर के इम्यून सिस्टम पर पड़ता है। जब व्यक्ति कम नींद लेना शुरु करता है तो दिमाग के सेल्स कमजोर होने लगते हैं और शरीर में कोर्टिसोल की मात्रा बढ़ने लग जाती है। कोर्टिसोल  adrenal gland में बनने वाला एक हार्मोन है। इसकी अधिक मात्राआपके स्वास्थ्य पर बुरा असर डालती है.
एक स्टडी में यह बात सामने आई थी कि यदि आप एक रात नींद नहीं लेते तो इसके कारण आपके अगले 21 दिन का शेड्यूल बिगड़ जाता है जो आपके इम्यून सिस्टम को बहुत नुकसान पहुंचाता है।


4. चाय या कॉफ़ी का ज़्यादा सेवन – वह लोग जो कॉफी और चाय के आदि होते हैं उनके शरीर में कैफीन की मात्रा बढ़ जाती है जिससे हारमोंस डिसबैलेंस हो जाते हैं।  इससे आपकी नींद में  भी कमी आती है और आपकी इम्यूनिटी कमजोर होने लगती है।

5. कम पानी पीना – इम्यूनिटी को मजबूत बनाए रखने में पानी का भी एक बहुत ही अहम किरदार होता है। जैस कि हम जानते हैं इंसान के शरीर का लगभग 65% हिस्सा पानी से बना होता है जिसके कारण यदि शरीर में पानी की कमी हो तो कार्यप्रणाली में बाधा आती है और इससे भी इम्यूनिटी कमजोर होती है इसलिए 1 दिन में 8 से 10 गिलास पानी अवश्य पीना चाहिए।

6. कम शारीरिक श्रम – जिस प्रकार से टेक्नोलॉजी एडवांस होती चली जा रही है लोगों को शारीरिक श्रम कम होता चला जा रहा है जो एक अच्छी बात भी है पर शारीरिक तौर पर एक बहुत ही बुरी बात है। जब आप कम शारीरिक श्रम करते हैं तो आपके शरीर में फैट जमा होने लगता है और आपके शरीर से पसीना भी नहीं निकल पाता जिसके कारण कई टॉक्सिंस आपके शरीर में जमा होने लगते हैं और यह आपके इम्यूनिटी को कमज़ोर करने लग जाता है।

7. गंभीर व्यवहार – यह बात जानकर आपको शायद हैरानी हो पर एक स्टडी के मुताबिक जिन लोगों का व्यवहार ज्यादा गंभीर हो ता है और जो अपने इमोशंस को ज्यादा कंट्रोल करने की कोशिश करते हैं उनके शरीर में कॉर्टिसोल की मात्रा बढ़ती है और कॉर्टिसोल बढ़ जाने के कारण इम्यूनिटी कमजोर होती है इसलिए हमेशा रिलैक्स रहना चाहिए और खुश रहना चाहिए। जिंदगी में ज्यादा गंभीर व्यवहार रखने से आपके दिमाग पर ही इसका प्रेशर पड़ता है और आपके रिलेशंस भी अच्छे नहीं रहते।

8. पर्सनल हाइजीन – पर्सनल हाइजीन यानी खुद को साफ़-सुथरा स्वच्छ रखना। हम सभी इसका महत्त्व जानते हैं पर फिर भी कई लोग लापरवाही बरतते हैं। यहाँ तक कि कई लोग खाना खाने से पहले हाथ धोने तक की जहमत नहीं करते। एक स्टडी में यह बात सामने आई कि यदि खाना खाने से पहले लोग साबुन से हाथ धोना शुरू कर दे तो वह 90% कम बीमार पड़ेंगे। पर्सनल हाइजीन के अंतर्गत और भी चीजें आती है जैसे कि रोज नहाना और अपने नाखून साफ रखना। अगर आप अपनी पर्सनल हाइजीन का ख्याल नहीं रखते हैं तो इससे आपकी इम्यूनिटी कमजोर होती चली जाती है।
                              
                                       






इम्युनिटी को मजबूत करने के प्राकृतिक उपाय   Natural Ways To Increase Immunity in Hindi

1. सही खान-पान – इम्यूनिटी को मजबूत रखने के लिए सही खानपान का होना बेहद जरूरी है क्योंकि इम्यूनिटी को मजबूत बनाए रखने के लिए माइक्रोन्यूट्रिएंट्स जैसे कि विटामिंस और मिनरल्स की अति आवश्यकता होती है। यदि आप भोजन में बैलेंस डाइट का पालन करते हैं तो यह आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखने में आपकी सहायता करता है। अपने बैलेंस डाइट में हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों को शामिल अवश्य करें।


2. योग – शरीर को स्वस्थ एवं लचीला बनाए रखने के लिए और इम्यूनिटी को बूस्ट करने के लिए योग बहुत ही कारगर होता है। योग के कितने फायदे होते हैं इस बारे में हमें आपको बताने की आवश्यकता नहीं है। अब विज्ञान भी मानता है कि जिम जाने से बेहतर है कि आप योग करना शुरू करें। जब आप योग करना शुरू करते हैं तो यह आपके शरीर को ना सिर्फ बाहर से बल्कि आपके शरीर को अंदर से मजबूत बनाता है। योग करने का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि यह आप की प्रतिरोधक क्षमता को बहुत मजबूत कर देता है।

3. कसरत – कसरत करना एक बहुत ही अच्छी आदत है। यदि आप रोज कसरत करते हैं तो इसके पीछे लगने वाली मेहनत के कारण शरीर की कैलोरी बर्न होती है। जिसके कारण शरीर से पसीना निकलता है और कोर्टिसोल बाहर निकल जाता है। कसरत करने से ना सिर्फ आपका शारीरिक स्वास्थ्य बल्कि आपका मानसिक स्वास्थ्य भी ठीक रहता है एवं यह आपकी इम्यूनिटी को मजबूत बनाता है। जो व्यक्ति रोज कसरत करता है उस व्यक्ति की तुलना में कसरत ना करने वाले लोगों की इम्युनिटी कमजोर होती है।


4. पर्याप्त नींद – विज्ञान के अनुसार हर व्यक्ति को रोज 7 से 8 घंटे नींद की आवश्यकता होती है। यदि आप इससे ज्यादा सोते हैं या कम सोते हैं तो दोनों ही अवस्था में आपको नुकसान होते हैं। इसलिए आपको कोशिश करनी चाहिए कि आप रात में 9:00 से 10:00 बजे तक सो जाएं और सुबह 4:00 से 5:00 तक उठ जाए। सोने के लिए एक समय निर्धारित कर लें। इस आदत से आपकी इम्यूनिटी और भी मजबूत होगी।

 
5. प्राणायाम – प्राणायाम भी योग का ही एक हिस्सा है। प्राणायाम में स्वास को विभिन्न तरीकों से अन्दर- बाहर किया जाता है। जिसके कारण शरीर के कई टॉक्सिक तत्व एवं नैनो पार्टिकल्स बाहर निकल जाते हैं। यदि आप प्राणायाम करना ही चाहते हैं तो आप बस अनुलोम-विलोम और कपालभाति रोज करना शुरू कर दें। यदि आप रोज यह दोनों प्राणायाम करते हैं तो आपका फेफड़ा हमेशा स्वस्थ रहेगा एवं आपका दिमाग भी तेज हो जाएगा और आपकी इम्युनिटी भी बढ़ेगी।


इम्युनिटी को मजबूत करने के घरेलू नुस्खे-

Ayurvedic Ways to increase immunity in Hindi इम्युनिटी बढ़ाने के तरीके

1. आंवला – आंवला को आयुर्वेद में अमृत फल भी कहा गया है और ऐसा इसलिए कहा गया है क्योंकि आंवले में विटामिन-C की भरपूर मात्रा होती है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि 15 संतरों में जितना विटामिन-C होता है उतना विटामिन-C अकेले एक ही आंवले में होता है और विटामिन-C इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में बहुत जरूरी तत्व माना जाता है। यदि आप रोज आंवले का सेवन किसी भी रूप में करते हैं तो यह आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। आप चाहे तो आंवले को मुरब्बे के रूप में या आचार के रूप में या इसके जूस के रूप में भी सेवन कर सकते हैं।

2. गिलोय – गिलोय को आयुर्वेद में ‘ अमृता ‘ भी कहा जाता है जिसका मतलब होता है अमृत बेल यानी कि यह पौधा किसी अमृत के समान हैं। गिलोय में एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन-C जैसे तत्व पाए जाते हैं जो शरीर में पैदा होने वाले फ्री रेडिकल्स को नष्ट कर देते हैं। गिलोय के सेवन से खून की सफाई भी होती है और विटामिन-C की प्रचुर मात्रा होने के कारण यह इम्यूनिटी को बूस्ट करने में भी  मदद करता है।

3. अश्वगंधा – अश्वगंधा आयुर्वेद के सबसे बड़ी एवं फायदेमंद जड़ी बूटियों में गिना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि जो व्यक्ति अश्वगंधा का सेवन करता है, वह हजारों बीमारियों से दूर रहता है और उसका शरीर भी जल्दी बूढ़ा नहीं होता। यदि आप रोज अश्वगंधा का सेवन करते हैं तो यह आपके इम्यून सिस्टम को बहुत मजबूत बना देता है एवं आपके शरीर में ऊर्जा को भी बढ़ाता है जो व्यक्ति अश्वगंधा का सही नियमों के साथ प्रयोग करता है उस व्यक्ति का शरीर लंबे समय तक बलवान और जवान बना रहता है।

4. हल्दी वाला दूध – अगर आप चाहते हैं कि आपको इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए बहुत ज्यादा मेहनत ना करनी पड़े तो आप बस इस नुस्खे का प्रयोग रोज करें। आप रोज रात में सोने से पहले एक गिलास गाय के दूध में 1/2 चम्मच हल्दी पाउडर मिलाएं और एक चुटकी काली मिर्च मिलाकर इसे रोज पीना शुरू करें। हल्दी और काली मिर्च के प्रभाव से यह आपके शरीर के दोषों को तो दूर करेगा ही साथ ही यह आपकी इम्यूनिटी को काफी मजबूत बना देगा।

5. मिंट ड्रिंक – मिंट ड्रिंक इम्यूनिटी को बढ़ाने का सबसे स्वादिष्ट और आसान तरीका माना जा सकता है इस ड्रिंक में एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन सी की प्रचुर मात्रा होती है जो प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है और शरीर में ताजगी लेकर आता है यह आपके पेट और पाचन तंत्र के लिए भी बहुत ही लाभदायक होता है तो आइए जानते हैं कि मिनट ड्रिंक कैसे बनाते हैं।

विधि – 5 मिंट के पत्ते( पुदीने के पत्ते) को अच्छी तरह पीस लें और 1 गिलास पानी मे मिक्स कर दें, अब 2 चम्मच शहद और 2 चम्मच निम्बू का रस उसमे मिलाएं आपका मिंट ड्रिंक रेडी है। आपको इसका अगर पूरा फ़ायदा प्राप्त करना है तो इसे सुबह खाली पेट पीएं।

6.आयुर्वेदिक काढ़ा – आयुर्वेद में काढ़े को बहुत महत्त्व दिया गया  है। इसका उपयोग आपके इम्यून सिस्टम को बहुत मजबूत बना देता है। इसका सेवन हमेशा सुबह खाली पेट या शाम को खाली पेट करना होता है। आइए जानते हैं कि इस काढ़े को बनाने की विधि क्या है:

विधि – 5 तुलसी के पत्ते, 5 काली मिर्च, अदरक, शहद, दालचीनी, मखाना लें अब 1 कप पानी को गर्म करें और इन सामग्रियों को डाल दें और अच्छी तरह उबालें जब काढ़े का रंग थोड़ा काला पड़ जाए तो समझ जाइए आपका काढ़ा रेडी है।

 इन जरूरी बातों पर अवश्य ध्यान दें-

 1. रात में जल्दी सोना शुरू करें और सुबह जल्दी उठना शुरू करें यह एक बहुत ही अच्छी आदत है जो आपकी इम्यूनिटी को बूस्ट करता है।

2. शराब, धूम्रपान अथवा किसी भी प्रकार की नशीली चीजों का सेवन बिलकुल न करें इन चीजों के सेवन से इम्यूनिटी कमजोर होती है और यह चीजें बीमारीयों को बुलावा देती हैं।

3. हमेशा घर का खाना खाएं और बाहर के दूषित खाने से बचें और बैलेंस डाइट को अपने जीवन में शामिल करें।

4. रोज कसरत करें क्योंकि एक रिसर्च में यह बात सामने आ चुकी है कि वह लोग जो रोज़ कसरत करते हैं उनकी इम्यूनिटी कसरत ना करने वालों की तुलना में ज्यादा मजबूत रहती है।

5. 7 से 8 घंटे की पर्याप्त नींद लें क्योंकि आप चाहे कुछ भी कर लें अगर आपकी नींद पूरी नहीं होगी तो आपकी इम्यूनिटी कमजोर हो जाएगी।

दोस्तों, हम आशा करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और आपको प्रतिरोधक क्षमता से जुड़े सवालों का जवाब अवश्य मिल गया होगा। यदि आपके मन में कोई और सवाल है तो कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें।अगर यह आर्टिकल आपको पसंद आयी हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ शेयर जरूर कीजिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ के इम्युनिटी बढ़ाने के तरीके के बारे में जान सकें.

धन्यवाद!


>

Thursday, 4 June 2020

सोनू सूद जीवन परिचय | Sonu Sood biography in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का स्वागत है आपके अपने वेबसाइट पर, दोस्तों  इस समय लोगों के जुबान पे जिस एक व्यक्ति का नाम है वो व्यक्ति हैं बॉलीवुड के मशहूर एक्टर सोनू सूद जी.

जी हां दोस्तों क्योकि जिस तरह लॉक डाउन में फसे लोगों को इन्होंने खुद के पैसे से बसों के द्वारा लोगों के घरो तक पहुचाने में दिन- रात लगे हुए हैं. अपने आप में किसी महान कार्य से कम नहीं है.
दोस्तों सोनू सूद फ़िल्मी लाइफ में भले ही ज्यादातर विलेन का किरदार निभाते हों , लेकिन रियल लाइफ ये एक सुपरस्टार से कम नहीं हैं.
आज के इस पोस्ट में हम आप लोगों को सोनू सूद जी के जी के बारे में बताने वाले हैं ,तो चलिए शुरू करते हैं.

Sonu Sood Biography in Hindi | सोनू सूद जीवन परिचय 

प्रारंभिक जीवन- 
   
सोनू सूद का जन्म 30 जुलाई सन 1973 को पंजाब राज्य के लुधियाना शहर में हुआ था. इनके पिता एक एंटरप्रेन्योर थे वहीं दूसरी तरफ इनकी माता एक स्कूल में  अध्यापिका थी.
 जहां तक इनके बैकग्राउंड की बात है तो आपको बता दें कि सोनू सूद फिल्मी बैकग्राउंड से नहीं हैं, लेकिन फिर भी उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री को ही अपना कैरियर बनाया.
                                                            

                                               

एजुकेशन-

सोनू सूद अपने जीवन में एक अच्छे स्टूडेंट रहे थे .जहा  तक पढ़ाई लिखाई की बात है तो उन्होंने वाईसीसी नागपुर से इलेक्ट्रॉनिक्स में इंजीनियरिंग की है.
इसके आलावा सोनू सूद ने माडलिंग सिखने के लिए एक अभिनय स्कूल में प्रवेश लिया था.

वैवाहिक जीवन-
जहाँ तक इनके वैवाहिक जीवन की बात है तो  इन्होंने सोनाली से शादी की और उनसे इनके दो बेटे हैं.
                                                 


कैरियर-
सोनू सूद ने अपने  फिल्मी कैरियर की शुरुआत वर्ष 1999 में तमिल फिल्म "कल्ला झागर" नामक फिल्म से की थी. 
दोस्तों आपको बता दें की सोनू सूद अपने शुरुआती समय में  म्यूजिक एल्बम में काम किया करते थे.
इसके बाद इन्होंने  बॉलीवुड में अपने कैरियर की शुरुआत वर्ष 2005 में फिल्म "शहीद-ए-आजम" से की थी, जिसमें उन्होंने भगत सिंह का किरदार निभाया था.
दर्शकों के बीच यह फिल्म काफी सफल  रही थी जिसके बाद उन्होंने कई फिल्मों में काम किया जिसमें दूसरी भाषाओं (तमिल,तेलगू एवं कन्नड़) की फिल्में भी शामिल है.

प्रसिद्ध फिल्में-  
दोस्तों वैसे तो सोनू सूद ने अपने फ़िल्मी करियर में एक से एक सफल फिल्मो में अपने अभिनय से लोगों के दिलों पर  राज किया है लेकिन इनकी कुछ फिल्मे हैं जो दर्शकों के बीच आज भी बहुत प्रसिद्द है.

शहीद-ए-आजम, आशिक बनाया आपने, चंद्रमुखी. एक विवाह ऐसा भी, सिंह इज़ किंग, बुड्ढा होगा तेरा बाप, जोधा अकबर, रमैया वस्तावैया, आर राजकुमार, एंटरटेनमेंट, हैप्पी न्यू ईयर ,गब्बर इज बैक और दबंग इत्यादि.

अवार्ड-
वर्ष 2009 में आइफा और अप्सरा की तरफ से इन्हें बेस्ट एक्टर के सम्मान से अलंकृत किया गया.
वर्ष 2009 में आयी फिल्म अरुंधती में इनके द्वारा निभाए गए विलेन रोल के लिए इन्हें बेस्ट विलेन के अवार्ड से सम्मानित किया गया था. 
दोस्तों इसके अलावा आपको बता दें कि सोनू सूद की 2010 में रिलीज हुई फिल्म "दबंग" में  निभाए गए विलेन के रोल को इतना पसंद किया गया कि इसके लिए उनको उस वर्ष  "आईफा" अवार्ड से सम्मानित किया गया.
इस फिल्म में सोनू सूद ने सलमान खान  के ऑपोजिट विलेन का किरदार निभाया था.
वर्ष 2012 में सोनू सूद को बेस्ट विलेन के अवार्ड (siima) से नवाजा गया जो की इनके जबर्दस्त अभिनय स्किल को दर्शाता है.
इसके अलावा इन्होंने "हैप्पी न्यू ईयर" और "शूट एट वडाला" फिल्म में अहम  किरदार निभाया था जो दर्शकों को काफी पसंद आया था.
दोस्तों आज का हमारा यह पोस्ट कैसा रहा आप हमें इस पोस्ट पे कमेंट के माध्यम से जरूर बताइए .
अगर यह पोस्ट आपको पसंद आयी हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ शेयर जरूर कीजिए ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग सोनू सूद जी के बारे में जान सकें .धन्यवाद्. 
>

Friday, 13 December 2019

भारत के टॉप 5 न्यूज़ एंकर 2019 | Top 5 news anchors of India 2019

 नमस्कार दोस्तों, आजकल हर व्यक्ति दुनिया के किसी भी कोने में रहते हुए किसी भी न्यूज़ को सबसे पहले सुनना एवं इसके बारे में जानना चाहता  हैं.

दर्शकों के इसी इच्छाओं को ध्यान में रखते हुए न्यूज़ एंकर  हमेशा सचेत रहते हैं. इसके लिए  न्यूज़ टीवी चैनल के सारे पत्रकार  दूसरे पत्रकारों को देश  एवं दुनिया के हर छोटे- बड़े  शहरों में फैलाए रहते हैं, जिसके द्वारा  वे किसी भी घटना को अति शीघ्र दर्शकों तक पहुंचाते हैं.

जैसा कि आप सब जानते हैं कि न्यूज एंकर और दर्शक ये  दोनों ही वह महत्वपूर्ण कड़ी हैं, जिसके बिना किसी  न्यूज़ चैनल की कल्पना भी नहीं की जा सकती है.

मित्रों आज के इस पोस्ट में हम आप लोगों को भारतीय टीवी के कुछ ऐसे ही टॉप न्यूज़ एंकर के बारे में बताने वाले हैं जो अपने एंकरिंग के वजह से पुरे देश में लोकप्रिय हैं. तो चलिए शुरू करते हैं- 
                      
भारत के टॉप 5 न्यूज़ एंकर 2019 | Top 5 news anchors of India 2019


1. रजत शर्मा-  इंडिया टीवी के चेयरमैन एवं भारत के सबसे सीनियर जर्नलिस्ट में से एक जो पिछले 25 वर्षों से अपने लोकप्रिय शो "आप की अदालत" को होस्ट कर रहे हैं.

 एक पत्रकार, एंकर होने के साथ-साथ  न्यूज़ वर्ल्ड कस्टर्ड एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष भी हैं.
 ये अपने मशहूर टीवी शो आप की अदालत में आने वाले मेहमानों को अपने सवालों से कई बार कंफ्यूज कर के  रख देते हैं.
                                             
इसके अलावा वर्तमान समय में यह "आज की बात रजत शर्मा के साथ" में भी समाचार पढ़ते हुए देखे जाते हैं.
दोस्तों अगर इनकी सैलरी देखा जाए तो ये  हर महीने लगभग दो करोड़ रुपए कमाते हैं.


2. राजदीप सरदेसाई-  ये  India Today group के सबसे वरिष्ठ  परामर्शदाता पत्रकार हैं. इनका जन्म गुजरात के अहमदाबाद में हुआ है.
 अगर बात शिक्षा की की जाए तो इन्होंने ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से अपनी शिक्षा ग्रहण की है.
 यह एक न्यूज़ एंकर, सीनियर एडिटर के रूप में  कार्य कर रहे हैं. इनकी जबरदस्त प्रतिभा के कारण इन्हें "पद्मश्री" अवार्ड से भी नवाजा जा चुका है.
 जहां तक इनके  इनकम  की बात है तो यह 1 वर्ष में 10 करोड़ रुपए कमा लेते हैं.


3. सुधीर चौधरी-  दोस्तों जब भी हम सुधीर चौधरी जी की बात करते हैं तो तुरंत हमारे मस्तिष्क में इनका सर्वाधिक लोकप्रिय शो "DNA(Daily News Analysis)"  अनावश्यक ही घुमने लगता है.
वैसे ये खयाल आये  भी क्यों ना,  क्योंकि इनका यह शो है ही इतना शानदार.
इनके लाइव शो DNA  में ये  किसी एक ट्रेंडिंग टॉपिक के ऊपर तथ्यों को बहुत अच्छे से एनालिसिस करते हैं, जो कि दर्शकों को बहुत पसंद आता है.
                                                     

आपको बता दें कि सुधीर चौधरी एक  बेबाक व निडर पत्रकार के रूप में भी जाने जाते हैं. ये एक  भारतीय पत्रकार होने के साथ-साथ न्यूज़ चैनल "Zee News" के प्रधान संपादक भी  हैं.

इन्हें वर्ष 2017 में "ज़ी मीडिया कारपोरेशन लिमिटेड" द्वारा अंग्रेजी समाचार वर्ल्ड वन न्यूज़ और जी बिजनेस के प्रधान संपादक के रूप में भी चुना जा चुका है.

इसके पहले ये  लाइव इंडिया के संपादक एवं एमआई मराठी समाचार चैनल के लिए भी काम कर चुके हैं.
इन्होंने कई राजनेताओं जैसे की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली, फिल्म अभिनेता अक्षय कुमार सरीखे लोगों का लाइव इंटरव्यू भी लिया है और वर्तमान में भारत के सबसे प्रसिद्ध न्यूज़ एंकर के रूप में भी जाने जाते हैं.
अगर इनके समाचार चैनल से होने वाले इनकम की बात की जाये तो यह  एक महीने का 25 लाख रूपये है.


4. अंजना ओम कश्यप-  अपने बेबाक एंकरिंग के लिए मशहूर अंजना ओम कश्यप Aaj Tak  की यह एक लोकप्रिय टीवी पत्रकार हैं.
यह अपने लाइव डिबेट शो "हल्ला- बोल" की वजह से अक्सर सुर्खियों में रहती हैं.

 इन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत सन 2003 में की थी और उस वक्त अंजना Zee News  के लिए कार्य करती थी.
मित्रों अंजना ओम कश्यप भारत की एक बहुत प्रतिभाशाली पत्रकार मानी जाती हैं. Zee News  के अलावा इन्होंने News-24 के  उप कार्यकारी निर्माता के रूप में भी कार्य कर चुकी हैं.

हाल ही में इन्हें भारत की "सर्वश्रेष्ठ न्यूज़ एंकर" का खिताब से भी नवाजा जा चुका है. इसके अलावा लोकसभा चुनाव के समय अपने लोकप्रिय शो "राजतिलक" से भी काफी चर्चा में रहती हैं.
अगर सैलरी की बात की जाए तो यह पत्रकारिता से  9 लाख रुपए प्रति महीना तक कमा लेती हैं.


5. श्वेता सिंह-  मित्रों श्वेता सिंह न्यूज़ चैनल Aaj Tak की एक लोकप्रिय एंकर हैं.  इन्होंने पटना विश्वविद्यालय से स्नातक करने से पहले ही न्यूज़ एंकरिंग के कैरियर में कदम रख चुकी थी.
 यह अपने प्रसिद्ध शो  "श्वेत-पत्र" से बहुत लोकप्रिय हो गई.

 दोस्तों श्वेता जी एक बहुत ही प्रतिभा संपन्न पत्रकार हैं. आज जब भी कोई विधानसभा या लोकसभा का चुनाव आता है तो यह भारत के लगभग सभी हिस्सों में पहुंच ही जाती हैं.

 सन 2002 में Aaj Tak के लिए काम करने से पहले यह जी न्यूज़ एवं सहारा के लिए भी अपनी सेवाएं दे चुकी हैं.
मित्रों श्वेता सिंह खबरों को अपने एक अलग अंदाज में प्रस्तुत करती  हैं, जो कि दर्शकों को बहुत पसंद आता है. अगर बात सैलरी की कि  जाए तो यह हर महीने 8 लाख रूपये  लेती हैं. वर्तमान में बिहार की यह होनहार बेटी Aaj  Tak  के लिए कार्य कर रही है.

दोस्तों हमारा आज का यह पोस्ट आपको कैसा लगा, कमेंट करके जरुर बताइए. अगर यह पोस्ट आपको पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ शेयर जरुर कीजिए जिससे इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ सकें.धन्यवाद्.
>

Friday, 6 December 2019

रामचरितमानस के 20 रोचक तथ्य | Interesting facts of Shri Ramcharitmanas

नमस्कार दोस्तों, हर बार की तरह आप सभी का एक बार फिर से स्वागत  है हमारे वेबसाइट पर . आज का यह पोस्ट शायद आप लोगों के लिए काफी रोचक होने वाला है, क्योकि आज के इस पोस्ट में हम आप लोगों को गोस्वामी तुलसीदास कृत श्रीरामचरितमानस के कुछ रोचक तथ्यों के बारे में  बताने वाले हैं.
तो चलिए अब आपके उत्सुकता को और ना बढ़ाते हुए श्रीरामचरितमानस के कुछ रोचक तथ्यों को प्रस्तुत कर रहे हैं-
1. मानस के अनुसार  भगवान श्री राम लंका में 111 दिन रहे.
2. लंका में सीता जी 435 दिन रही.
3. मानस में कुल श्लोकों की संख्या 27 है.
4. मानस में कुल चौपाइयों की संख्या 4,608 है.
5. मानस में दोहा की संख्या 1074 है.
6. मानस में छंदों की संख्या 86 है.
7. श्री रामचरितमानस में सोरठा की संख्या 207 है.
8. सुग्रीव के पास 10,000  हाथियों का बल था.
9. सीता 33 वर्ष की उम्र में रानी बनी.
10. श्रीरामचरितमानस की रचना के समय महर्षि तुलसीदास की उम्र 77 वर्ष थी.
                                                     
11. पुष्पक विमान की चाल 400 मील प्रति घंटा थी.
12. राम दल व रावण दल का युद्ध  87 दिन तक चला.
13. राम रावण युद्ध 32 दिन तक चला.
14. सेतु निर्माण 5 दिन में हुआ.
15. नल और नील के पिता भगवान विश्वकर्मा जी हैं.
16. त्रिजटा के पिता महाराज विभीषण जी थे.
17. गुरु विश्वामित्र राम को ले गए 10 दिन के लिए.
18. भगवान राम ने रावण को सबसे पहले मारा था मात्र 6 वर्ष की उम्र में
19. रावण को सुखेन वैद्य ने नाभि में अमृत रखकर पुनर्जीवित किया.
20. रावण के पुत्र मेघनाथ ने एक बार इंद्र को भी युद्ध में हरा दिया था इसलिए  उसे  इंद्रजीत भी कहा जाता है.

 दोस्तों यह जानकारी काफी परिश्रम के बाद आप लोगों के सामने प्रस्तुत किए हैं. आशा करते हैं की यह पोस्ट आप सबको पसंद आयी होगी.
अगर यह पोस्ट आप लोगों को पसंद आयी हो तो इस पोस्ट पर कमेंट करके हमें जरुर बताएं एवं साथ ही इस पोस्ट को अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के साथ शेयर करना न भूलें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों तक हमारी  यह छोटी सी जानकारी पहुच सके.धन्यवाद. 
>